Bhartiya Jnanpith/भारतीय ज्ञानपीठ
लोगों की राय

भारतीय ज्ञानपीठ की पुस्तकें :

अँधेरा समुद्र

परितोष चक्रवर्ती

मूल्य: Rs. 120

परितोष चक्रवर्ती का चौथा कहानी-संग्रह है- ‘अँधेरा समुद्र’। परितोष हमारे समय के एक ज़रूरी कहानीकार हैं जो खण्ड खण्ड अस्मिताओं को गूँथकर भारत के एक वृहत्तर सामाजिक आख्यान को रचते हैं।   आगे...

अँधेरे की आत्मा

एम. टी. वासुदेवन नायर

मूल्य: Rs. 140

साहित्य अकादमी पुरस्कार, वायलार पुरस्कार, केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित श्री एम. टी. वासुदेवन नायर की उत्कृष्ट कहानियों का संग्रह ।   आगे...

अँधेरे में हँसी

योगेन्द्र आहूजा

मूल्य: Rs. 125

संघर्ष भरी जिन्दगी के बीच जीने की जद्धोजहद योगेन्द्र आहूजा की कहानियों की विशेषता है।   आगे...

अँधेरे से आगे

मृदुला बिहारी

मूल्य: Rs. 60

प्रस्तुत है पाँच नाटकों का संग्रह....   आगे...

अध्यात्म पदावली

राजकुमार जैन

मूल्य: Rs. 150

प्रस्तुत है हिन्दी के प्रमुख जैन भक्त कवियों के आध्यात्मिक पदों का संकलन....   आगे...

अनय

अरविंद गोखले

मूल्य: Rs. 75

प्रस्तुत है श्रेष्ठ कहानियों का संग्रह.....   आगे...

अनहद

कैलाश बाजपेयी

मूल्य: Rs. 180

अपने देश में वैदिक युग से लेकर अब तक जो कुछ रचा गया है, उस ज्ञानराशी का क्षेत्र भी कुछ कम नहीं. अतुलनीय है वह ---   आगे...

अनाज पकने का समय

नीलोत्पल

मूल्य: Rs. 130

सहज जीवन-विवेक और मूल-बोध से भरी हुई नीलोत्पल की कविताएँ...   आगे...

अनुत्तर योगी : तीर्थंकर महावीर 1

वीरेन्द्र कुमार जैन

मूल्य: Rs. 300

हजारों वर्षों के भारतीय पुराण-इतिहास, धर्म, संस्कृति, दर्शन, अध्यात्म का गम्भीर एवं तलस्पर्शी मन्थन करके वीरेन्द्रकुमार जैन ने यहाँ इतिहास के पट पर महावीर को जीवन्त और ज्वलन्त रूप में अंकित किया है   आगे...

अनुत्तर योगी : तीर्थंकर महावीर 2

वीरेन्द्र कुमार जैन

मूल्य: Rs. 300

हजारों वर्षों के भारतीय पुराण-इतिहास, धर्म, संस्कृति, दर्शन, अध्यात्म का गम्भीर एवं तलस्पर्शी मन्थन करके वीरेन्द्रकुमार जैन ने यहाँ इतिहास के पट पर महावीर को जीवन्त और ज्वलन्त रूप में अंकित किया है   आगे...

 < 1 2 3 4 5 >  Last ›  View All >>   806 पुस्तकें हैं|