जूठन-2 - ओमप्रकाश वाल्मीकि Joothan-2 - Hindi book by - Om Prakash Valimiki
लोगों की राय

अतिरिक्त >> जूठन-2

जूठन-2

ओमप्रकाश वाल्मीकि

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :164
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9086
आईएसबीएन :9788183616935

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

98 पाठक हैं

जूठन-2...

Joothan-2 - A Hindi Book by Om Prakash Valimiki

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

जूठन-2 ‘जूठन’ ओमप्रकाश वाल्मीकि की आत्मकथा है। इसका पहला भाग बरसों पहले प्रकाशित होकर, आज हिन्दी दलित साहित्य और खासकर आत्मकथाओं की श्रृंखला में एक विशेष स्थान प्राप्त कर चुका है। वाल्मीकि जी अब हमारे बीच नहीं हैं, अपने जीवन-काल में उन्होंने ‘जूठन’ के बाद साहित्य, समाज और संवेदना के दायरों में एक लम्बी यात्रा पूरी की। कई कथात्मक और आलोचनात्मक कृतियों के साथ उनके काव्य-संग्रह भी आए। ‘जूठन’ का यह दूसरा भाग उनके उसी दौर का आख्यान है। आत्मकथा के इस दूसरे भाग की शुरुआत उन्होंने देहरादून की आर्डिनेंस फैक्ट्री में अपनी नियुक्ति से की है। नई जगह पर अपनी पहचान को लेकर आई समस्याओं के साथ-साथ यहाँ मजदूरों के साथ जुड़ी अपनी गतिविधियों का जिक्र करते हुए उन्होंने अपनी साहित्यिक सक्रियता का भी विस्तार से उल्लेख किया है। सहज, प्रवाहपूर्ण और आत्मीय भाषा में लिखी गई यह पुस्तक देहरादून से जबलपुर और वहाँ से पुनः देहरादून की यात्रा करती हुई शिमला उच्च अध्ययन संस्थान और फिर उनके अस्वस्थ होने तक जाती है। दलित साहित्य के वर्तमान परिदृश्य में ‘जूठन’ के इस दूसरे भाग को पढ़ना एक अलग अनुभव है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book