जूठन-1 - ओमप्रकाश वाल्मीकि Joothan-1 - Hindi book by - Om Prakash Valimiki
लोगों की राय

अतिरिक्त >> जूठन-1

जूठन-1

ओमप्रकाश वाल्मीकि

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :164
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9085
आईएसबीएन :9788171198542

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

265 पाठक हैं

जूठन-1...

Joothan-1 - A Hindi Book by Om Prakash Valimiki

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

जूठन-1 आज़ादी के पाँच दशक पूरे होने और आधुनिकता के तमाम आयातित अथवा मौलिक रूपों को भीतर तक आत्मसात कर चुकने के बावजूद आज भी हम कहीं-न-कहीं सवर्ण और अवर्ण के दायरों में बँटे हुए हैं। सिद्धान्तों और किताबी बहसों से बाहर, जीवन में हमें आज भी अनेक उदाहरण मिल जाएँगे जिनसे हमारी जाति और वर्णगत असहिष्णुता स्पष्ट दृष्टिगोचर होती है। ‘जूठन’ ऐसे ही उदाहरणों की श्रृंखला है जिन्हें एक दलित व्यक्ति ने अपनी पूरी संवेदनशीलता के साथ खुद भोगा है। इस आत्मकथा में लेखक ने स्वाभाविक ही अपने उस ‘आत्म’ की तलाश करने की कोशिश की है जिसे भारत का वर्ण-तंत्र सदियों से कुचलने का प्रयास करता रहा है, कभी परोक्ष रूप में, कभी प्रत्यक्षतः। इसलिए इस पुस्तक की पंक्तियों में पीड़ा भी है, असहायता भी है, आक्रोश और क्रोध भी और अपने आपको आदमी का दर्जा दिए जाने की सहज मानवीय इच्छा भी।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय