लोगों की राय

अतिरिक्त >> स्वर्गोद्यान बिना सांप

स्वर्गोद्यान बिना सांप

यशपाल

प्रकाशक : सरल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :133
मुखपृष्ठ :
पुस्तक क्रमांक : 8648
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

30 पाठक हैं

स्वर्गोद्यान बिना सांप पुस्तक का आई पैड संस्करण

प्रथम पृष्ठ

Swargodyan Bina Sanp - A Hindi Ebook By Yashpal

आई पैड संस्करण


‘‘लेखक ने कलाकर की दृष्टि से हमारे द्वीप की प्राकृतिक छटा का मुंह बोला मनोरम चित्र पेश किया है। उसने हमारे अनेक नसलों सम्प्रदायों के मिश्रण, देश में सहअस्तित्व और सहयोग की आवश्यकता को सहानुभूतिपूर्ण मार्मिक दृष्टि से देखा, समझा और हमारे प्रयत्नों को सराहा है। अन्तर्राष्ट्रीय समता-सहयोग की ऐसी मानवी दृष्टि ही विश्व कुटुम्ब की भावना और सफलता का आधार बन सकती है। मारीशस सद्भावना और मैत्री की इस अभिव्यक्ति की सराहना से स्वागत करता है।’’ इस पुस्तक के कुछ पृष्ठ यहाँ देखें।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book