Siyaramsharan Gupta/सियारामशरण गुप्त
लोगों की राय

लेखक:

सियारामशरण गुप्त
जन्म : 1895, चिरगाँव, झांसी, उत्तर प्रदेश।

देहावसान : 29 मार्च, 1963।

श्री सियारामशरण गुप्त राष्ट्रकवि श्री मैथिलीशरण गुप्त के छोटे भाई थे। कवि, कथाकार और निबन्ध लेखक के रूप में उन्होंने अपना विशिष्ट स्थान बना लिया था। श्री सियारामशरण गुप्त की रचनाओं में उनके व्यक्तित्व की सरलता, विनयशीलता, सात्विकता और करुणा सर्वत्र प्रतिफलित हुई है। वास्तव में गुप्त जी मानवीय संस्कृति के साहित्यकार हैं। उनकी रचनाएँ सर्वत्र एक प्रकार के चिन्तन, आस्था-विश्वासों से भरी हैं, जो उनकी अपनी साधना और गांधी जी के साध्य साधन की पवित्रता की गूंज से ओत-प्रोत हैं।

कृतियाँ :

उपन्यास : गोद, अंतिम आकांक्षा, नारी।

काव्य : मौर्य-विजय, अनाथ, दूर्वाद्रल, विषाद, आर्द्रा, आत्मोत्सर्ग, पाथेय, मृणमयी, बापू, उन्मुक्त, दैनिकी, नकुल, नोआखली में, जयहिन्द, गीता-संवाद, गोपिका, अमृत-पुत्र।

कहानी संग्रह : मानुषी।

निबन्ध संग्रह : झूठ-सच।

नाटक : पुण्य पर्व।

अन्तिम आकांक्षा

सियारामशरण गुप्त

मूल्य: Rs. 125

एक रोचक और मनोरंजक उपन्यास   आगे...

गोद

सियारामशरण गुप्त

मूल्य: Rs. 125

यह अत्यन्त रोचक उपन्यास जीवन की उच्च भावनात्मक मन:स्थिति को ऐसे प्रभावी रूप में उद्वेलित कर देता है कि पाठक का मन भी अंदर तक उद्वेलित हो उठे।   आगे...

नारी

सियारामशरण गुप्त

मूल्य: Rs. 175

नारी सहित प्रत्येक व्यक्ति ईश्वर की सृष्टि है। इसी कारण ईश्वर की तरह वह दहन भी है। ईश्वर की तरह कष्ट सहन करके ही उसे ईश्वरीय शक्ति उपलब्ध करना होगा।...   आगे...

 

  View All >>   3 पुस्तकें हैं|