Kunwar Narayan/कुँवर नारायण
लोगों की राय

लेखक:

कुँवर नारायण

अन्वय - खण्ड - 1

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 1295

  आगे...

अन्विति - खण्ड - 2

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 1495

  आगे...

अपने सामने

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 125

अपने सामने...   आगे...

आकारों के आसपास

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 150

आकारों के आसपास...   आगे...

आज और आज से पहले

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 600

  आगे...

आत्मजयी

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 120

मानक प्रबन्ध-काव्य के रूप में प्रशंसित ‘आत्मजयी’ का मूल कथासूत्र कठोपनिषद् में नचिकेता के प्रसंग पर आधारित है।   आगे...

इन दिनों

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 250

ये कविताएँ आदमी के बुनियादी आवेगों को भी इस तरह व्यक्त करती हैं कि एक सतर्क पाठक उनके साथ आसानी से एकात्म हो सकता है ।   आगे...

कोई दूसरा नहीं

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 200

‘कोई दूसरा नहीं’ की कविताएँ मन को केवल आह्लादित ही नहीं करतीं, बल्कि विवेक का संबल भी प्रदान करती हैं।   आगे...

तट पर हूँ तटस्थ नहीं

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 250

‘तट पर हूँ पर तटस्थ नहीं’ पिछले एक दशक में कुँवर नारायण द्वारा विभिन्न लेखकों, कवियों, पत्रकारों को दी गई भेंटवार्त्ताओं का एक प्रतिनिधि चयन है।   आगे...

नयी सदी के लिए चयन : पचास कविताएँ

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 65

नयी सदी के लिए चयन : पचास कविताएँ   आगे...

प्रतिनिधि कविताएं: कुंवर नारायण

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 75

शुरू से लेकर अब तक की कविताएँ सिलसिलेवार पढ़ी जाएँ तो कुँवर नारायण की भाषा में बदलते मिज़ाज को लक्ष्य किया जा सकता है।   आगे...

बेचैन पत्तों का कोरस

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 295

  आगे...

रुख

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 300

  आगे...

लेखक का सिनेमा

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 495

“लेखक का सिनेमा” उन्हीं में से कुछ प्रमुख लेखों, टिप्पणियों, व्याख्यानों और संस्मरणों से बनी पुस्तक है। इसमें अनेक अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सवों की विशेष रपटें हैं, जो लेखकीय दृष्टिकोण से लिखी गई हैं और बहुत महत्वपूर्ण हैं। इस किताब में वे कला, जीवन, समाज और सिनेमा, इन सबके बीच के संबंधों को परिभाषित, विश्लेषित करते हुए चलते हैं।

  आगे...

वाजश्रवा के बहाने

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 160

हिन्दी के अग्रणी कवि कुँवर नारायण का यह दूसरा खंड-काव्य है…   आगे...

शब्द और देशकाल

कुँवर नारायण

मूल्य: Rs. 250

कुँवर नारायण द्वारा विभिन्न विशिष्ट अवसरों पर दिए गए व्याख्यान एवं लेख   आगे...

 

  View All >>   16 पुस्तकें हैं|