बिंद/bind
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

बिंद  : पुं० [सं० बिंदु] १. पानी की बूँद। २. वीर्य की बूंद जिससे गर्भाधान होता है। ३. दोनों भौहों के बीच का स्था। भ्रू-मध्य। ४. माथे पर लगाई जानेवाली बिंदी। ५. दे० ‘बिंदु’। पुं० [?] दूल्हा। वर। (राज०) (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदक  : वि०=विंदक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदना  : स० [सं० वन्दन] १. वंदना करना। २. ध्यान करना। उदाहरण—सबद बिंदौरे अवधूस बद बिंदौ।—गोरखनाथ। ३. प्रशंसा करना। उदाहरण—कोई निन्दौ कोई बिन्दौ म्हे तो गुण गोविंद।—मीराँ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदा  : पुं० [सं० बिंदु] १. माथे पर का गोल और बड़ा टीका। बेंदा। बुंदा। बड़ी बिंदी। २. उक्त आकार का कोई चिन्ह। स्त्री०=वृन्दा (गोपी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदी  : स्त्री० [सं० बिंदु] १. शून्य का सूचक चिन्ह। सिफर। सुन्ना। २. उक्त आकार का छोटा टीका जो माथे पर लगाया जाता है। ३. इस प्रकार का कोई चिन्ह या पदार्थ। ४. दे० ‘टिकुली’। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु  : पुं० [सं०√विद् (विभक्त करना)+उ] १. पानी या किसी तरल पदार्थ की बूँद। कतरा। २. किसी पदार्थ का बहुत ही छोटा कण। ३. लेख आदि की बिंदी। सून्य। सिफर। ४. बहुत ही छोटा गोलाकार अंकन या चि्ह्र। ५. ज्यामिति में उक्त प्रकार का वह अंकन या चिन्ह जिसके विभाग न हो सकते हों। ६. लेखन आदि में उक्त प्रकार की वह बिंदी जो अनुस्वार की सूचक होती है। ७. प्रेमी या प्रेमिका के शरीर पर दाँत गड़ाकर किया जानेवला क्षत। दंत-क्षत। ८. भौहों और ललाट के बीचोबीच का स्थान। ८. नाटक में अर्थ-प्रकृति की पाँच स्थितियों में से दूसरी जिसमें कोई गौण घटना आदि उसी प्रकार बढ़कर प्रधान या मुख्य घटना के समान जान पड़ने लगती है, जिस प्रकार पानी पर गिरी हुई तेल की बूँद फैलकर उस पर छा जाती है। १॰. योग में अनाहत नाद के प्रकाश का व्यक्त रूप। स्त्री०=बेंदी (गहना)। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदुक  : पुं० [सं० बिंदु+कन्] १. बूँद। २. बिंदी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदुकित  : भू० कृ० [सं० बिंदुक+इतच्] जिस पर बिंदु लगे या लगाये गये हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु-बिब  : पुं० [सं० ष० त०] एक प्रकार का चित्तीदार हिरन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु-तंत्र  : पुं० [सं० ष० त०] १. चौसर आदि खेलने की बिसात और पासा। २. गेंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु-देव  : पुं० [सं० ष० त०]=शिव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु-पत्र  : पुं० [सं० मध्य० स०] भोजपत्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु-फल  : पुं० [उपमि० स०] मोती।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदुरी  : स्त्री०=बिंदी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु-रेखक  : पुं० [सं० ब० स० कप्०] १. अनुस्वार। २. एक तरह का पक्षी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदु-रेखा  : स्त्री० [सं० ष० त०] वह रेखा जो बिन्दुओं केयोग से बनी हो जैसे...।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदुली  : स्त्री०=बिंदी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंदुवासर  : पुं० [सं० ष० त०] वह दिन जिसमें स्त्री को गर्भाधान हुआ हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बिंद्रावन  : पुं०=वृन्दावन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ