बारह/baarah
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

बारह  : वि० [सं० द्रादश, प्रा० बारस, अप० बारह] [वि० बारहवीं] जो संख्या में दस और दो हो। पुं० उक्त की सूचक संख्या जो इस प्रकार लिखी जाती है।—१२।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारह-खड़ी  : स्त्री० [सं० द्वादश+अक्षरी] १. अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ, अं और अः इन बारह स्वरों की मात्राएँ क्रमात् प्रत्येक व्यंजन में लगाकर बोलने या लिखने की क्रिया। २. वह रूप जिसमें सभी व्यजनों में उक्त स्वर लगाकर दिखाये गये हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारह टोपी  : स्त्री० [हि०] १. मध्ययुग में यूरोप के बारह प्रमुख राष्ट्र जो अपने टोपों की विभिन्नता के कारण प्रसिद्ध थे। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहठ  : पुं० [सं० द्वारस्थ] राजपूताने केचारणों का एक भेद या वर्ग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहरदी  : स्त्री० [हिं० बारह+फा० दर=दरवाजा] किसी इमारत का ऊपरवाला वह कमरा जिसमें चारों ओर तीन तीन दरवाजे अर्थात् कुल मिलाकर बारह दरवाजे हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारह पत्थर  : पुं० [हिं० बारह+पत्थर] १. वे बारह पत्थर जो पहिले छावनी की सरहद पर गाड़े जाते थे। २. सैनिक शिविर। छावनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारह बाट  : पुं० [हि०] १. इधर-उधर फैले हुए बहुत से मार्ग। जैसे—बारहबाट अठारह पैंड़। २. व्यर्थ का प्रसार या फैलाव। ३. किसी विषय में लोगों के ऐसे परस्पर विरोधी मत या विचार जो एकता, दृढ़ता आदि में बाधक हों। वि० १. छिन्न-भिन्न। तितर-बितर। २. नष्ट-भ्रष्ट। बरबाद। मुहावरा—बारह बाट करना या घालना=तितर-बितर या छिन्न-भिन्न करना। व्यर्थ इधर-उधर करके नष्ट करना। बारहबाट जाना या होना=(क) तितर-बितर होना। छिन्न-भिन्न होना। (ख) नष्ट-भ्रष्ट होना। बरबाद होना। ३. ऐसा निरर्थक जो घातक भी सिद्ध हो या हो सकता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहबान  : पुं० [सं० द्वादश, वर्ण] [वि० बारहबानी] एक प्रकार का खरा और बढ़िया सोना। पुं० [हिं० बारह+बाना] मध्ययुगीन भारत में अच्छे सैनिक के पास रहनेवाले ये बारह हथियार-कटार, कमान, चक्र, जमदाढ़, तमंचा, तलवार, बंदूक, बकतह, बाँस, बिछुआ और साँग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारह-बाना  : वि० [हि०] १. सूर्य के समान चमक-दमकवाला। २. खरा और चोखा। (सोना)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारह-बानी  : वि० [सं० द्वादश (आदित्य)+वर्ण, पा० बारस, वण्ण] १. सूर्य के समान चमक-दमकवाला। बहुत चमकीला। २. (सोना) बिलकुल खरा चोखा या बढ़िया। ३. जिसमें कोई खोट, दोष या विकार न हो। निर्मल और स्वच्छ। ४. जिसमें कोई कसर या त्रुटि न हो। ठीक और पक्का। स्त्री० १. सूर्य की सी चमक। २. आभा। चमक दीप्ति। ३. बारह बाना सोना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहमासा  : पुं०=[हिं० बारह+मास] वह पद्य या गीत जिसमें बारह महीनों की प्राकृतिक विशेषताओं का वर्णन किसी विरही या विरहनी के मुँह से कराया गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहमासी  : वि० [हिं० बारह+मास] १. बारहों मास होनेवाला। २. वर्ष के बारहों महीनों में से अलग-अलग प्रत्येक भाग से सम्बन्ध रखनेवाला। जैसे—बारह-मासी। चित्रावली=ऐसी चित्रावली जिसमें चैत, वैशाख, जेठ आदि महीनों की प्राकृतिक स्थिति और उनके ध्यान अर्थात् कल्पित स्वरूपों के अलग-अलग चित्र हों। ३. सब ऋतुओं में फलने-फूलने वाला। ४. (काम या बात) जो बराबर या सदा हुआ करे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारह-वफात  : पुं० [हिं० बारह+अ० वफात] अरबी महीने रवी-उल-अव्वल की वे बारह तिथियाँ जिनमें मुसलमान के विश्वास के अनुसार मुहम्मद साहब बीमार रहकर अन्त में पर-लोकवासी हुए थे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहवाँ  : वि० [हिं० बारह] [स्त्री० बारहवीँ] संख्या में बारह के स्थान पर पड़नेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहसिंगा  : पुं० [हिं० बारह+सींग] एक प्रकार का बड़ा हिरन जो तीन चार फुट और सात आठ फुट लंबा होता है। नर के सीगों में कई शाखाएँ निकलती है। इसी से इसे बराहसिंगा कहते हैं। झिंकार। साल-साँभर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहाँ  : वि० [हिं० बारह] जो बारह (अर्थात् बहुत से) लोगों में सबसे प्रबल हो जैसे—बारहाँ गुंडा, बरहाँ मिस्तरी। वि० बहादुर। वीर। वि०=बाहहवाँ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहा  : अव्य० [फा०] अनेक बार। प्रायः बहुधा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारही  : स्त्री०=बरही। (जन्म से बारहवाँ दिन)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारहों  : पुं० [हिं० बारह] १. किसी मनुष्य के मरने के दिन से बारहवाँ दिन। बारहवाँ। द्वादशाह। २. बरही (जन्म से बारहवां दिन)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बारही  : स्त्री०=वाराही। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ