बताना/bataana
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

बताना  : स० [हिं० बात+ना (प्रत्यय) या सं० वदन=कहना] १. कोई बात कहकर किसी को कोई जानकारी या परिचय कराना। जैसे—तुम्हारी नौकरी लगने की बात मुझे उसी ने बतायी थी। २. कोई कठिन काम या बात इस प्रकार दिखलाना या समझाना कि उससे अनजानों का ज्ञान या योग्यता बढ़े। जैसे—(क) गुरु जी ने अभी तुम्हें व्याकरण का वषय नहीं बताया है। (ख) नौकर ने मालिक को खर्च का हिसाब बताया। ३. किसी प्रकार का निर्देश या संकेत करना। जैसे—किसी की ओर उंगली दिखाकर बताना। ४. नाच-गाने आदि के प्रसंग में ऐसी मुद्राएँ बनाना जो गीत के भाव के अनुरूप या उनकी स्पष्ट परिचायक हों। जैसे—वह गाता (या नाचता) तो उतना अच्छा नहीं हैं, पर भाव बहुत अच्छा बताता है। मुहावरा—भाव बताना=किसी काम या बात के समय स्त्रियों के से हाव-भाव प्रदर्शित करना। ५. किसी को धमकाते हुए यह आशा प्रकट करना कि हम तुम्हारा अभिमान दूर कर देंगे या तुम्हारी बुद्धि ठिकाने कर देंगे। जैसे—अच्छा किसी दिन तुम्हें भी बताऊँगा। ६. दिखलाना। जैसे—बावली को आग बताई उसने ले घर में लगाई। (कहा० )। पुं० [सं० वर्तक=एक धातु] १. हाथ में पहनने का कड़ा। २. वह फटा-पुराना या साधारण कपड़ा जो पगड़ी बाँधने से पहले यों ही सिर पर इसलिए लपेट लिया जाता है कि बालों से पगड़ी गंदी या मैली न होने पावे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ