तक्र/takr
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तक्र  : पुं० [सं०√तंच् (संकुचित करना)+रक्] १. छाछ। मट्ठा। २. शहतूत के पेड़ का एक रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्र-पिंड  : पुं० [सं० मध्य० स०] छेना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्रभिद्  : पुं० [सं० तक्र√भिद् (फाड़ना)+क्विप्] एक तरह का कँटीला पेड़। कैथ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्र-प्रमेह  : पुं० [मध्य० स०] एक रोग जिसमें मूत्र छाछ की तरह गाढ़ा और सफेद होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्र-मांस  : पुं० [मध्य० स०] मांस का रसा। यखनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्रवामन  : पुं० [सं० तक्र√वम् (वमन करना)+णिच्+ल्युट्-अन] नागरंग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्र-संधान  : पुं० [सं० मध्य० स०] सौ टके भर छाछ में एक एक टके भर सांबर नमक, राई और हल्दी का चूर्ण डालकर बनाई जानेवाली काँजी (वैद्यक)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्र-सार  : पुं० [सं० ष० त०] मट्ठे में से निकलनेवाला सार तत्व। नवनीत। मक्खन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्राट  : पुं० [सं० तक्र√अट् (चलना)+अच्] मथानी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्रार  : स्त्री०=तकरार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्रारिष्ट  : पुं० [सं० तक्र-अरिष्ट, मध्य० स०] एक प्रकार का अरिष्ट जो मट्ठे में हड़ और आँवले आदि का चूर्ण मिलाकर बनाया जाता है। (वैद्यक)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तक्राह्वा  : स्त्री० [सं० तक्र-आह्व, ब० स०] एक प्रकार का क्षुप।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ