आला/aala
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

आला  : पुं० [सं० आलय, आलवाल, पा० आलक, कन्न, आलि० गु० आलियो, मरा० आलें] १. दीवार में थोड़ा-सा खाली छोड़ा हुआ वह स्थान जिसमें छोटी-मोटी चीजें रखी जाती है। ताक। ताखा। पुं० [सं० अलात] कुम्हार का आँवाँ। पजावा। वि० [सं० ओल-गीला] १. गीला। तर। नम। २. ताजा। ३. कच्चा और हरा। उदाहरण—आले ही बाँस के माँडव मनिगन पूरन हो।—तुलसी। पुं० [अ० आलः] कारीगरों के काम करने के कोई उपकरण। औजार। वि० [अ० आला] ऊँचे दरजे का और बढ़िया। श्रेष्ठ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलाइश  : स्त्री० [फा०] पेट के अँदर से या शरीर के किसी अंग में से निकलनेवाली गंदी चीजें। जैसे—पीब, मल, रक्त आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलात  : पुं० [सं० अलात+अण्] ऐसी लकड़ी जिसका एक सिरा जल रहा हो। लुआठी। लुक। पुं० [सं० आल० का० बहु] १. उपकरण। औजार। २. जहाज का रस्सा। (लश०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलात-चक्र  : पुं० [ष० त०] जलती हुई लक़ड़ी को वेग से घुमाने पर उससे बननेवाला चमकीला मंडल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलान  : पुं० [सं० आ√ली+ल्युट्-अन] १. वह खूँटा या खंभा जिसमें हाथी बाँधा जाता है। २. हाथी बाँधने का रस्सा या सिक्कड़। ३. बाँधने की रस्सी आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलाप  : पुं० [सं० आ√लप्(बोलना)+घञ्] १. कहना। बोलना। २. आपस में होनेवाली बात-चीत। जैसे—वार्तालाप। ३. चिड़ियों की चहचहाट। ४. संगीत में राग-रागिनों के गाने का वह विशिष्ठ आरंभिक अंश या प्रकार जिसमें तानयुक्त स्वरों में केवल धुन का प्रदर्शन होता है, गीत के बोलों का उच्चारण नहीं होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलापक  : वि० [सं० आ√लप्+ण्वुल्-अक] आलाप या बातचीत करनेवाला। २. संगीत में स्वरों का आलाप करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलापचारी  : स्त्री० [सं० आलाप-चार] संगीत में, स्वरों का आलाप करने की क्रिया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलापना  : स० =अलापना
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलापित  : भू० कृ० [सं० आ√लप्+णइच्+क्त] १. कहा हुआ। कथित। २. संगीत में, आलाप के रूप में उच्चरित किया हुआ। ३. गाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलापिनी  : स्त्री० [सं० आलाप+इनि-ङीष्] बाँसुरी। बंसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलापी (पिन्)  : वि० [सं० आलाप+इनि वा आ√लप्+णिनि] [स्त्री०आलापिनी] =आलापक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलारासी  : वि० [सं० आलस्य ?] १. आलसी। २. ला-परवाह। स्त्री० ऐसी अव्यवस्थित स्थिति जिसमें कही किसी की चिंता या पूछ न हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आलावर्त्त  : पुं० [सं० आल-आ√वृत्त (बरतना)+णिच्+अच्] कपड़े का बना हुआ या कपड़े से मढ़ा हुआ पंखा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ