आर्ष/aarsh
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

आर्ष  : वि० [सं० ऋषि+अण्] १. ऋषियों से संबंधित। ऋषियों का। २. ऋषियों का बनाया हुआ। ३. वैदिक रचनाओं और स्तोत्रों से संबंधित। ४. जो ऋषियों द्वारा प्रचिलित होने के कारण ही मान्य हो। जैसे—आर्ष प्रयोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आर्ष-प्रयोग  : पुं० [सं० कर्म० स०] भाषा के क्षेत्र में, किसी पद या शब्द का ऐसा प्रयोग जो व्याकरण के नियमों से ठीक न सिद्ध न होने पर भी इसलिए प्रचलित तथा मान्य हो कि प्राचीन ऋषि आदि ऐसा प्रयोग कर गये हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आर्षभ  : वि० [सं० ऋषभ+अण्] ऋषभ संबंधी। ऋषभ का। पुं० ऋषभ का वंशज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आर्ष-विवाह  : पुं० [सं० कर्म० स०] स्मृतियों के अनुसार आठ प्रकार के विवाहों में से तीसरा जिसमें कन्या का पिता वर से दो गौएँ या बैल शुल्क के रूप में लेकर उसे अपनी कन्या देता था।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आर्षेय  : वि० [सं० ऋषि+ढक्-एय] १. ऋषियों से संबंध रखने या उनमें होनेवाला। २. पूज्य। मान्य। ३. उत्तम। श्रेष्ठ। पुं० १. ऋषियों का गोत्र। २. मंत्र-दृष्टा ऋषि। ३. यजन-याजन और अध्ययन-अध्यापन आदि जो ऋषियों के कार्य है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ