आर्य-समाज/aary-samaaj
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

आर्य-समाज  : पुं० [ष० त०] [वि० आर्य-समाजी] हिंदुओं के अंतर्गत एक आधुनिक संप्रदाय जिसे स्वामी दयानंद सरस्वती ने स्थापित किया था। और जो मूर्ति-पूजा, पुराणों आदि का खंडन तथा मूल वैदिक धर्म का पोषण करता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आर्य-समाजी (जिन्)  : पुं० [सं० आर्यसमाज+इनि] वह जो आर्यसमाज के सिद्धांत मानता हो और उसका अनुयायी हो। वि० १. आर्यसमाज संबंधी। २. आर्य समाजियों की तरह का।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ