आप्त/aapt
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

आप्त  : वि० [सं० आप् (पाना)+क्त] [भाव०आप्तता, आप्ति] १. आया पहुँचा या मिला हुआ। जैसे—आप्त-गर्भा=गर्भवती, आप्त गर्व अभिमानी। २. विश्वास करनेयोग्य। ३. कुशल। दक्ष। पुं० १. ऐसा व्यक्ति जिसपर विश्वास किया जा सकता हो। २. ऋषि। ३. योग में, ऐसा प्रमाण जो केवल कथन या शब्दों के आधार पर हो। शब्द प्रमाण। ४. गणित में किसी सांख्य को भाग देने पर प्राप्त होनेवाला मान या संख्या। लब्धि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-काम  : पुं० [ब० स०] १. वह जिसकी इच्छाएँ पूरी हो चुकी हों। २. वह जिसने सांसारिक बंधनों और वासनाओं से मुक्ति पा ली हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्तकारी (रिन्)  : पुं० [सं० आप्त√कृ(करना)+णिनि] १. वह जो ठीक प्रकार से तथा विश्वस्त ढंग से काम करता हो। २. गुप्तचर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-पुरुष  : पुं० [कर्म० स०] वह व्यक्ति जो तत्त्वों वस्तुओं आदि के यथार्थ रूप अच्छी तरह जानता हो और जिसकी उपदेशपूर्ण बातें प्रामाणिक मानी जाती हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-वचन  : पुं० [ष० त०] १. ऐसा कथन जिसमें कुछ भी प्रमाद या भूल न हो। बिलकुल ठीक और मानने योग्य बात। २. ऋषि मुनियों के वचन जो श्रुतियों समृतियों आदि से मिलते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-वर्ग  : पुं० [ष० त०] आत्मीयों और बंधु बांधवों का वर्ग या समूह।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्तागम  : पुं० [आप्त-आगम, कर्म० स०] वेद, श्रुतियाँ स्मृतियाँ आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्ति  : स्त्री० [सं०√आप्+क्तिन्] १. आप्त होने की अवस्था या भाव। २. प्राप्ति। लाभ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्तोक्ति  : स्त्री० [सं० आप्त-उक्ति, ष० त०] आप्त वचन के रूप में मानी जानेवाली उक्ति या कथन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ