अंकुश/ankush
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

अंकुश  : पुं० [सं० √अंक्+उशच्] (भू० कृ० अकुशित) १. भाले की तरह का वह दो मुहाँ अँकुड़ा या काँटा जिससे हाथी चलाया और वश में किया जाता है, गज-बाग। २. वह अधिकार, तत्त्व या शक्ति जिससे किसी को अधिकारपूर्वक किसी कार्य के लिए अग्रसर किया जा सके अथवा रोका जा सके। ३. नियंत्रण या वश में रखने की क्रिया या भाव। ४. दबाव, नियंत्रण या रोक। क्रि० प्र० —मानना। रखना।—लगाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुश-ग्रह  : पुं० [ष० त०] महावत, हाथीवान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुश-दंता  : पुं० [सं० अंकुश+हि० दाँत] वह हाथी जिसका एक दाँत सीधा और दूसरा झुका हुआ या टेढ़ा होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुश-धारी  : (रिन्)- पुं० [सं० अंकुश√धृ (धारण करना) + णिनि] १. वह जिसके हाथ में अंकुश हो। २. महावत, हाथीवान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुश-मुद्रा  : स्त्री० [मध्य० सं० ] तंत्र में उँगलियों की अंकुश जैसी बनी हुई आकृति या मुद्रा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुशा  : स्त्री० [सं० अंकुश√अच्-टाप्] चौबीस जैन देवियों में से एक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुशित  : भू० कृ० [सं० अंकुश+इतच्] अकुश द्वारा चलाया या बढ़ाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुशी  : (शिन्) वि० [सं० अंकुश+इनि] १. अंकुश युक्त। अंकुशवाला। २. अंकुश की सहायता से वश में करने वाला। स्त्री०-अंकुशा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
अंकुश  : (ा) पुं०=अंकुशा। (यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ