कहत कबीर - हरिशंकर परसाई Kahat Kabeer - Hindi book by - Harishankar Parsai
लोगों की राय

हास्य-व्यंग्य >> कहत कबीर

कहत कबीर

हरिशंकर परसाई

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :164
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 9330
आईएसबीएन :9788126728527

Like this Hindi book 4 पाठकों को प्रिय

359 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

हरिशंकर परसाई के व्यंग्य को श्रेष्ठतम इसलिए कहा जाता है कि उनका उददेश्य कभी पाठक को हँसाना भी नहीं रहा ! न उन्होंने हवाई कहानियां बनीं, न ही तथ्यहीन विद्रूप का सहारा लिया ! अपने दौर की राजनितिक उठापठक को भी वे उतनी ही जिम्मेदारी और नजदीकी से देखते थे जैसे साहित्यकार होने के नाते आदमी के चरित्र को ! यही वजह है कि समाचार-पत्रों में उनके स्तंभों को भी उतने ही भरोसे के साथ, बहैसियत एक राजनितिक टिप्पणी पढ़ा जाता था जितने उम्मीद के साथ उनके अन्य व्यग्य-निबंधो को !

इस पुस्तक में उनके चर्चित स्तम्भ ‘सुनो भई साधो’ में प्रकाशित 1983-84 के दौर की टिप्पणियां शामिल हैं ! यह वह दौर था जब देश खालिस्तानी आतंकवाद से जूझ रहा था ! ये टिप्पणियां उस पूरे दौर पर एक अलग कोण से प्रकाश डालती हैं, साथ ही अन्य कई राजनितिक और सामाजिक घटनाओं का उल्लेख भी इनमें होता है ! जाहीर है खास परसाई-अंदाज में ! मसलन, 21 नवम्बर, 83 को प्रकाशित ‘चर्बी, गंगाजल और एकात्मता यज्ञ’ शीर्षक लेख की ये पंक्तियाँ ! ‘‘काइयां सांप्रदायिक राजनेता जानते हैं कि इस देश का मूढ़ आदमी न अर्थनीति समझता, न योजना, न विज्ञान, न तकनीक, न विदेश नीति !

वह समझता है गौमाता, गौहत्या, चर्बी, गंगाजल, यज्ञ ! वह मध्ययुग में जीता है और आधुनिक लोकतंत्र में आधुनिक कार्यकर्म पर वोट देता है ! इस असंख्य मूढ़ मध्ययुगीन जान पर राज करना है तो इसे आधुनिक मत होने दो !’’


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book