दो भाई - प्रेमचंद Do Bhai - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

सामाजिक >> दो भाई

दो भाई

प्रेमचंद

प्रकाशक : विश्व बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :55
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9298
आईएसबीएन :8179871991

Like this Hindi book 1 पाठकों को प्रिय

234 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

कथा सम्राट प्रेमचंद विश्व के उन विशिष्ट कथाकारों की श्रेणी में गिने जाते हैं, जिन्होंने समाज के सभी वर्गों - अमीर-गरीब, स्त्री-पुरुष, बच्चे-बूढ़े, जमींदार-किसान, साहूकार-कर्जदार आदि के जीवन और उनकी समस्याओं को यथार्थवादी धरातल पर बड़ी ही सीधी-सादी शैली और सरल भाषा में प्रस्तुत करते हुए एक दिशा देने का प्रयास किया है।

यही कारण है कि प्रेमचंद की कहानियां हिंदी-भाषी क्षेत्रों में ही नहीं, संपूर्ण भारत में आज भी पढ़ी, समझी और सराही जाती हैं। इतना ही नहीं, विदेशी भाषाओं में भी उनकी चुनी हुई कहानियों के अनुवाद हो चुके हैं।

इसी प्रासंगिकता के सदंर्भ में प्रस्तुत है करीबी रिश्तों के कथित प्रेम की आड़ में पनपने वाले ईर्ष्याद्वेष को उजागर करती चुनिंदा कहानियों का संग्रह - ‘दो भाई’ बचपन में एक को रोते देख दूसरा भाई भी रोने लगता था, लेकिन बड़े होने पर वही भाई एक दूसरे की मृत्यु पर भी नहीं रोते क्योंकि अब उन्हें अपने पराए की पहचान हो जाती है। विवाह के बाद तो किशन, अपने सगे भाई को कर्ज दिलाने के नाम पर प्रपंच रच कर उसके हिस्से का घर भी हड़प लेना चाहता है। क्या पत्नी की सीख भाई के प्रेम पर हावी हो जाती है ?

‘दो भाई’ तथा अन्य ऐसी कहानियां जो मानवीय चरित्र के विभिन्न पक्षों को प्रस्तुत करती हैं।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book