पुत्र प्रेम - प्रेमचंद Putra Prem - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

सामाजिक >> पुत्र प्रेम

पुत्र प्रेम

प्रेमचंद

प्रकाशक : विश्व बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9265
आईएसबीएन :8179871185

Like this Hindi book 4 पाठकों को प्रिय

278 पाठक हैं

पुत्र प्रेम तथा अन्य कहानियाँ

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

कथा सम्राट प्रेमचंद विश्व के उन विशिष्ट कथाकारों की श्रेणी में गिने जाते हैं, जिन्होंने समाज के सभी वर्गों - अमीर-गरीब, स्त्री-पुरुष, बच्चे-बूढ़े, जमींदार-किसान, साहूकार-कर्जदार आदि के जीवन और उनकी समस्याओं को यथार्थवादी धरातल पर बड़ी ही सीधी-सादी शैली और सरल भाषा में प्रस्तुत करते हुए एक दिशा देने का प्रयास किया है।

यही कारण है कि प्रेमचंद की कहानियां हिंदी-भाषी क्षेत्रों में ही नहीं, संपूर्ण भारत में आज भी पढ़ी, समझी और सराही जाती हैं। इतना ही नहीं, विदेशी भाषाओं में भी उनकी चुनी हुई कहानियों के अनुवाद हो चुके हैं।

प्रेमचंद की इस प्रासंगिकता के संदर्भ में प्रस्तुत है उन की कुछ भूलीबिसरी, किन्तु विशिष्ट कहानियों का संग्रह ‘पुत्र प्रेम,’ है जिस में सामाजिक एवं परिवारिक जीवन के खट्टेमीठे अनुभव बिखरे पड़े हैं। ये कहानियां प्रेमचंदकालीन उर्दू की पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई थीं।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय