यह मेरी मातृभूमि है - प्रेमचंद Yeh Meri Matrabhoomi Hai - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

कथा की पुस्तकें >> यह मेरी मातृभूमि है

यह मेरी मातृभूमि है

प्रेमचंद

प्रकाशक : विश्व बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :160
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9262
आईएसबीएन :8179871754

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

416 पाठक हैं

प्रस्तुत है पुस्तक के कुछ अंश

एक जागरूक रचनाकार का अपने पारिवारिक और सामाजिक परिवेश के साथ-साथ समकालीन राजनीतिक गतिविधियों एवं परिस्थितियों से प्रभावित न होने का प्रश्न ही नहीं उठता। प्रेमचंद भी इसके अपवाद नहीं थे।

इसीलिए प्रेमचंद ने पारिवारिक और सामाजिक कहानियों साथ-साथ उस समय चल रहे स्वाधीनता आंदोलन से जुड़ी कई कहानियां लिखी थीं, जिनका एकत्र संग्रह है - ‘यह मेरी मातृभूमि है।’

इस कहानी संग्रह में, तत्कालीन स्वाधीनता आंदोलन के साहचर्य में चल रहे स्वदेशी आंदोलन, शराबबंदी आंदोलन आदि की भी झलक मिलती है।

प्रेमचंद की ये कहानियां स्वाधीनता आंदोलन के संदर्भ में महत्वपूर्ण दस्तावेज हैं।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book