सपनों का मनोविज्ञान - सिगमंड फ्रायड Sapnon ka Manovigyan - Hindi book by - Sigmund Freud
लोगों की राय

विविध >> सपनों का मनोविज्ञान

सपनों का मनोविज्ञान

सिगमंड फ्रायड

प्रकाशक : नया साहित्य केन्द्र प्रकाशित वर्ष : 2012
पृष्ठ :152
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 8677
आईएसबीएन :9789380300283

Like this Hindi book 1 पाठकों को प्रिय

214 पाठक हैं

विश्व विख्यात मनोवैज्ञानिक सिगमंड फ्रायड की द्वारा लिखी ‘The Interpretation of Dreams’ का संक्षिप्त अनुवाद

Sapnon ka Manovigyan by Sigmund Freud

हमें सपने क्यों आते हैं? क्या हमारे सपनों का कोई गहरा अर्थ होता है? क्या सपने आने वाली किसी सच्चाई की सूचना देते हैं या फिर बीते हुए दिनों पर कोई नई रोशनी डालते हैं? क्या सपने हमारे मन के भीतर छिपी किसी दबी आशा, निराशा या अभिलाषा की तरफ इशारा करते हैं या वे महज दिन-भर की बातों का एक बेजोड़ चलचित्र हैं। ऐसे ही कई सवाल हैं जो हम सबके मन में कभी न कभी ज़रूर उठते हैं। और इन सब सवालों का जवाब पाएंगे आप इस पुस्तक में। विश्व विख्यात मनोवैज्ञानिक सिगमंड फ्रायड ने अपने जीवनकाल में सपनों पर गहन वैज्ञानिक अध्ययन किया था और उसी का निचोड़ इस प्रामाणिक पुस्तक में प्रस्तुत है।



अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book