इक्कीस बांग्ला कहानियाँ - अरुण कुमार मुखोपाध्याय Ikkees Bangla Kahaniyan - Hindi book by - Arun Kumar Mukhopadhyay
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> इक्कीस बांग्ला कहानियाँ

इक्कीस बांग्ला कहानियाँ

अरुण कुमार मुखोपाध्याय

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया प्रकाशित वर्ष : 2001
पृष्ठ :234
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 84
आईएसबीएन :00000000

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

56 पाठक हैं

इक्कीस बांग्ला कहानियाँ - समय की दृष्टि से बांग्ला की छोटी कहानियों का इतिहास लम्बा तो नहीं है, पर इसके उत्कर्ष को अस्वीकार नहीं किया जा सकता।

Ikkees Bangla Kahaniyan

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

इक्कीस बांग्ला कहानियाँ - समय की दृष्टि से बांग्ला की छोटी कहानियों का इतिहास लम्बा तो नहीं है, पर इसके उत्कर्ष को अस्वीकार नहीं किया जा सकता। मध्यम वर्गीय समस्याओं से घिरे नगर जीवन तथा कल्लोलित नदियों और पश्चिम की मटमैली चढ़ाई, उतराई से घिरे ग्राम जीवन के मूल सुर ने बांग्ला की छोटी कहानियों को विशेषता प्रदान की है।

वर्तमान काल के इक्कीस कहानियों का यह संकलन सिर्फ कहानियों के रस से समृद्ध ही नहीं, रवीन्द्रनाथ के बाद के बांग्ला साहित्य की मौलिकता का भी सूचक है। कलकत्ता विश्वविद्यालय में बांग्ला के अध्यापक एवं बांग्ला साहित्य के समालोचक अरूण कुमार मुखोपाध्याय इस संकलन के सम्पादक हैं।

लोगों की राय

No reviews for this book