सात छेद वाली मैं - सुधा गुप्ता Saat Chhed Wali Main - Hindi book by - Sudha Gupta
लोगों की राय

कविता संग्रह >> सात छेद वाली मैं

सात छेद वाली मैं

सुधा गुप्ता

प्रकाशक : निरुपमा प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :64
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8268
आईएसबीएन :978-93-81050-3

Like this Hindi book 1 पाठकों को प्रिय

335 पाठक हैं

सात छेद वाली मैं

Saat Chhed Wali Main - A Hindi Book - by Dr. Sudha Gupta

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश


नीराजना



हे माँ शारदे!
तू मुझको तार दे
तेरी देहरी
आऊँ भाव-हार ले
वर बार-बार दे

माँ! तेरे द्वार
एक यही गुहार
तेरी बालिका
लिये शब्द-मालिका
तू उन्हें सँवार दे।

कई वर्ण के
खिले औ’ अधखिले
फूल जो मिले
जैसे-जैसे गूँथे हैं
माँ! उन्हें स्वीकार ले!

आँखों के दीप
साँसों का नेह लिये
प्राणों की बाती
बनी है नीराजना
अर्चना साकार, ले!


बाँसुरी अष्टक



सुनो जी कान्हा!
सात छेद वाली मैं
खाली ही ख़ाली
तूने अधर धरी
सुरों की धार बही

बाँस की पोरी
निकम्मी, खोखल में
बेसुरी, कोरी
तूने फूँक जो भरी
बन गई ‘बाँसुरी’

कोई न गुन
दो टके का न तन
तूने छू दिया
कान्हा! निकली धुन
लो, मैं ‘नौ लखी’ हुई

छम से बजी
राधिका की पायल
सुन के धुन
दौड़ पड़ गोपियाँ
उफनी है कालिन्दी

तेरा ही जादू
दूध पीना भूला है
गैया का छौना
चित्र-से मोर, शुक
कैसा ये किया टोना

गोपी का नेह
अनूठा, निराला है
सास के ताने
पति-शिशु का मोह
छोड़ जाने वाला है

आज भी कान्हा
बजा रहे बाँसुरी
निधि-वन में
लोक-लाज छोड़ के
दौड़ी राधा बावरी




अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book