आधुनिक हिन्दी उपन्यास-1 - भीष्म साहनी Adhunik Hindi Upanyas-1 - Hindi book by - Bhishm Sahni
लोगों की राय

भाषा एवं साहित्य >> आधुनिक हिन्दी उपन्यास-1

आधुनिक हिन्दी उपन्यास-1

भीष्म साहनी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2010
पृष्ठ :499
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 7979
आईएसबीएन :9788126718641

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

219 पाठक हैं

आधुनिक हिन्दी उपन्यास-1...

Adhunik Hindi Upanyas-1 by bhisham sahni

प्रेमचन्द ने पहली बार इस सत्य को पहचाना कि उपन्यास सोद्देश्य होने चाहिए अर्थात् उपन्यास या कोई भी साहित्यिक विधा मनोरंजन के लिए नहीं होती वरन् यह मानव-जीवन को शक्ति और सुन्दरता प्रदान करने वाली सोद्देश्य रचना होती है।

प्रेमचन्द में यथार्थ के जिन आयामों (सामाजिक और मनोवैज्ञानिक) का उद्घाटन हुआ वे प्रेमचन्द के बाद अलग-अलग धाराओं में बँटकर तथा अपनी-अपनी धारा की अन्य अनेक सूक्ष्म बातों में संश्लिष्ट होकर बहुत तीव्र और विशिष्ट रूप में विकसित होते गए। एक ओर मनोविज्ञान की धारा बही, दूसरी ओर समाजवाद की।

प्रेमचन्दोत्तर सामाजिक उपन्यासों में मार्क्सवाद का स्वर प्रधान न भी रहा हो किन्तु उसका प्रभाव निश्चय ही अन्तर्निहित रहा है। उसके प्रभाव के कारण ही निर्मम भाव से सामाजिक विसंगतियों को उद्घाटित किया गया। आंचलिक उपन्यासों की भी जन-चेतना उन्हें प्रेमचन्द से जोड़ती है, किन्तु अपने स्वरूप और दृष्टि में ये बहुत भिन्न है। इन्हें उपन्यास की एक नई विधा के रूप में ही स्वीकारना चाहिए।

यह आकस्मिक नहीं है कि स्वाधीनता प्राप्ति के बाद उपन्यास तो बहुत सारे लिखे गए किन्तु उपलब्धि के शिखरों को वे ही छू सके जो सामाजिक अनुभवों के प्रति समर्पित रहे, जिनकी दृष्टि की आधुनिकता एक मुद्रा या तेवर की तरह टँगी नहीं रही, बल्कि सघन जीवन-यथार्थ के अनुभवों के बीच एक रचनात्मक शक्ति बनकर व्याप्त रही।

‘आधुनिक हिन्दी उपन्यास’ के सफर पर केन्द्रित यह पुस्तक ‘गोदान’ से लेकर आठवें दशक तक के महत्त्वपूर्ण उपन्यासों तक आती है। उल्लेखनीय है कि चालीस से अधिक जो उपन्यास इस चर्चा के केन्द्र में हैं; उनमें से अधिकांश हिन्दी के ‘क्लासिक’ के रूप में प्रतिष्ठित हुए। यह पुस्तक केवल समीक्षा-संकलन नहीं है; संदर्भित उपन्यासों के रचनाकारों के आत्मकथ्य इसे एक रचनात्मक आयाम भी देते हैं जिनसे हमें इन उपन्यासों की रचना-प्रक्रिया का पता चलता है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book