याद रखो - अरविन्द शुक्ल Yaad Rakho - Hindi book by - Arvind Shukla
लोगों की राय

अतिरिक्त >> याद रखो

याद रखो

अरविन्द शुक्ल

प्रकाशक : बुक वर्ल्ड प्रकाशित वर्ष : 2004
पृष्ठ :16
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 6194
आईएसबीएन :00000

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

260 पाठक हैं

जीवन को सुन्दर बनाने के लिए कुछ बातों का पालन करो और उन्हें स्मरण रखो ......

Yaad Rakho-A Hindi Book by Arvind Shukla

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

याद रखो


1.    जब सन्देह में हो तो चुप रहें।
2.    प्रशंसा की आशा मत करो, उसके हकदार बनो।
3.    जो नम्रता जानता है वही मित्रता भी पैदा कर सकता है।
4.    दु:खों का चिन्तन करने से हम बड़े होते हैं। भूल जाने से छोटे।
5.    जिसे हार जाने का भय नहीं, उसे प्राय: हारना पड़ता ही नहीं।
6.    अगर किसी विषय में हमारी जीत हुई है तो उस जीत को ऊँचे उठने की सीढ़ी बनाओ।
7.    अपना लक्ष्य बनाकर चुप न बैठो।
8.    भाग्य के भरोसे जिस काम को छोड़ोगे, वह फिर भाग्य से ही ठीक उतरेगा।
9.    जिसे यह विश्वास है कि वह कभी सफल न होगा उसका विश्वास प्राय: ठीक उतरेगा।
10.    यदि तुम्हें दो घड़ी की फुरसत है तो उस आदमी का समय नष्ट न करो, जिसे फुरसत नहीं।
11.    संसार हमारी योग्यता की पहचान। हमने क्या किया, इससे करता है। हम क्या करेंगे, इससे नहीं करेगा।
12.    मनुष्य को अपने जीवन में या तो कठिनाइयों का मुकाबला करना पड़ता है या असफलता का।
13.    हम कितने बली हैं यह दिखाने का सबसे अच्छा उपाय दूसरों की कमजोरियों को न देखना।
14.    दूसरे के पास जो वस्तु है उसका आनन्द जो लेना जानता है उसको कभी गरीबी नहीं सताती।
15.    दूसरों के किये हुए कामों में ऐब ढूँढने में जितना समय लगाते हो उस कीमती समय में तुम खुद ही उस काम को कर सकते हो।
 

लोगों की राय

No reviews for this book