प्रेरणात्मक विचार - ए. पी. जे. अब्दुल कलाम Prernatmak Vichar - Hindi book by - A. P. J. Abdul Kalam
लोगों की राय

विविध >> प्रेरणात्मक विचार

प्रेरणात्मक विचार

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम

प्रकाशक : राजपाल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2007
पृष्ठ :104
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 5826
आईएसबीएन :81-7028-690-5

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

265 पाठक हैं

आप किस रूप में याद रखे जाना चाहेंगे ?

Prernatmak Vichar

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

आप किस रूप में याद रखे जाना चाहेंगे ?
आपको अपने जीवन को कैसा स्वरूप देना है, उसे एक कागज़ पर लिख डालिए।
वह मानव इतिहास का महत्त्वपूर्ण पृष्ठ हो सकता है

बच्चों को प्रेरित कीजिए कि वे सपने संजोना सीखें

सपने देखना, उन्हें दृढ़ संकल्प से
सार्थक करना आपका
जीवन-दर्शन होना चाहिए

सृजनशील व्यक्ति औरों की
तरह की स्थिति को देखता है,
लेकिन उसके निष्कर्ष
बने-बनाये ढांचे से भिन्न
और मौलिक होते हैं

श्रेष्ठ नेतृत्व चुम्बक की भांति होता है,
जो अच्छे लोगों को अपनी
ओर आकृष्ट करता है
रचनात्मक नेतृत्व अपनी परम्परागत
भूमिका से हटकर कमांडर के स्थान
पर कोच और प्रबंधक के स्थान पर
पथप्रदर्शक का काम करता है

सितारों को न छू पाना
लज्जा की बात नहीं
लज्जा की बात है
मन में सितारों को छूने का
हौसला ही न होना

एक अच्छू पुस्तक आनेवाली
पीढ़ियों के लिए मार्गदर्शक
के समान होती है

सपने लेना मत छोड़िये
सपने लेते रहिए
सपने ही आधारशिला होते हैं
नये भवनों के निर्माण की

कल्पनाशील नेतृत्व ही
‘विकसित भारत’
के सपने को साकार करने में
सक्षम होगा

सफलता तभी संभव है, जब
हम कर्तव्य के प्रति समर्पित हों


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book