ज्ञान-रश्मि (दोहावली) - आर. पी. कर्मयोगी Gyan-Rashmi (Dohawali) - Hindi book by - R. P. Karmyogi
लोगों की राय

धर्म एवं दर्शन >> ज्ञान-रश्मि (दोहावली)

ज्ञान-रश्मि (दोहावली)

आर. पी. कर्मयोगी

प्रकाशक : युग निर्माण योजना गायत्री तपोभूमि प्रकाशित वर्ष : 2006
पृष्ठ :72
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 4227
आईएसबीएन :0000

Like this Hindi book 2 पाठकों को प्रिय

96 पाठक हैं

प्रस्तुत है ज्ञान-रश्मि दोहावली

Gyan-Rashmi (Dohawali)

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

जीवन जीना एक कला है, पर आज का सबसे बड़ा संकट यह है कि मानव मूल्यों को गिरावट ने जीवन को तहस-नहस करके रख दिया है। व्यक्तित्व से रहित व्यक्ति की हालत बद से बदतर होती चली जा रही है। करुणा, कराह रही है। दया रो रही है और सेवा सो रही है। मनुष्य अपने अहं में डूबा है, न सहयोग है, न शांति। किसको, किसकी चिन्ता है ? बात सब करते हैं पर मर्म सो कोसों दूर।

सुख सब चाहते हैं, पर वे यह नहीं जानते कि सुख का स्रोत अन्दर है, न कि बाहर। बाहर के साधन तो उसके चुम्बकत्व से खिंचकर अनायास ही उसके आस पास इकट्ठे हो जाते हैं। इसके लिए लूट-खसोट् बेईमानी और रिश्वतखोरी नहीं करनी पड़ती। जीवन में सुख ही सबकुछ नहीं है जहाँ सुख है वहाँ दुःख भी है। दुखो से दूर मत भागो, कठिनाइयों से मत डरो इनसे अवरोध तो होता है, पर इतना नहीं कि प्रबल पुरुषार्थ से उसका सामना न हो सके। व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी समझे और परिपूर्ण निष्ठा के साथ अपने कर्तव्यों का पालन करे तो प्रगति का मार्ग स्वयं खुल जाता है।

हम मनुष्यता के महान गौरव के अनुरूप अनुकरणीय जीवन जीएँ तथा दूसरों को भी इस ओर अग्रसर करें ऐसे उच्चस्तरीय दृष्टिकोण के आधार पर ही मनुष्यता की महानता निर्भर है।

लोगों की राय

No reviews for this book