लोगों की राय

लेख-निबंध >> शब्द और स्मृति

शब्द और स्मृति

निर्मल वर्मा

प्रकाशक : वाणी प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2020
पृष्ठ :134
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 16774
आईएसबीएन :9789387155763

Like this Hindi book 0

प्रथम पृष्ठ

रोमन खँडहरों या पुराने मुस्लिम मकबरों के बीच घूमते हुए एक अजीब गहरी उदासी घिर आती है जैसे कोई हिचकी, कोई साँस, कोई चीख़ इनके बीच फँसी रह गयी हो…जो न अतीत से छुटकारा पा सकती हो, न वर्तमान में जज़्ब हो पाती हो…किन्तु यह उदासी उनके लिए नहीं है, जो एक जमाने में जीवित थे और अब नहीं हैं…वह बहुत कुछ अपने लिए है, जो एक दिन खँडहरों को देखने के लिए नहीं बचेंगे…पुराने स्मारक और खँडहर हमें उस मृत्यु का बोध कराते हैं, जो हम अपने भीतर लेकर चलते हैं, बहता पानी उस जीवन का बोध कराता है, जो मृत्यु के बावजूद वर्तमान है, गतिशील है, अन्तहीन है…
शब्द और स्मृति में निर्मल वर्मा ने स्पष्ट कर दिया था कि प्रश्न ‘भारतीय अनुभव’ का नहीं, भारतीय ‘स्मृति’ का है और ‘स्मृति’ व्यक्ति और अतीत के बीच एक विशिष्ट जुड़ाव, एक सांस्कृतिक सम्बन्ध से जन्म लेती है। अतः स्मृति का प्रश्न इतिहास का नहीं, ‘संस्कृति का प्रश्न’ है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book