लोगों की राय

यात्रा वृत्तांत >> चीड़ों पर चाँदनी

चीड़ों पर चाँदनी

निर्मल वर्मा

प्रकाशक : वाणी प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2023
पृष्ठ :226
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 16757
आईएसबीएन :9789387155732

Like this Hindi book 0

प्रथम पृष्ठ

निर्मल वर्मा के गद्य में कहानी, निबन्ध, यात्रा-वृत्त और डायरी की समस्त विधाएँ अपना अलगाव छोड़कर अपनी चिन्तन-क्षमता और सृजन-प्रक्रिया में समरस हो जाती हैं…आधुनिक समाज में गद्य से जो विविध अपेक्षाएँ की जाती हैं, वे यहाँ सब एकबारगी पूरी हो जाती हैं।

– डॉ. रामस्वरूप चतुर्वेदी

निर्मल वर्मा के यहाँ संसार का आशय सम्बन्धों की छाया या प्रकाश में ही खुलता है, अन्यथा नहीं। सम्बन्धों के प्रति यह उद्दीप्त संवेदनशीलता उन्हें अनेक अप्रत्याशित सूक्ष्मताओं में भले ले जाती हो, उनको ऐसा चिन्तक-कथाकार नहीं बनाती जिसका चिन्तन अलग से हस्तक्षेप करता चलता हो। वे अर्थों के बखान के नहीं, अर्थों की गूंजों और अनुगूगूँजों के कथाकार हैं।

– अशोक वाजपेयी

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book