लोगों की राय

भाषा एवं साहित्य >> जीने के लिये

जीने के लिये

राहुल सांकृत्यायन

प्रकाशक : किताब महल प्रकाशित वर्ष : 2019
पृष्ठ :259
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 16716
आईएसबीएन :9788122500813

Like this Hindi book 0

प्रथम पृष्ठ

डेढ़ साल हुए, जबकि ”जीने के लिए” के लिखने का ख्याल आया था, लेकिन शायद अब भी वह कागज पर न आता, यदि छपरा जेल में ढाई मास रहने का अवसर न मिलता। यह मेरा पहला उपन्यास है, यदि ”बाईसवीं सदी” को उस श्रेणी से हटा दें। कितने ही मित्रों को ताज्जुब होगा, कितने मेरे नासिखियापन तथा दूसरे दोषों के कारण हँसेंगे; तो भी कलम को रोकना आसान न था, इसलिए इस अनाधिकार चेष्टा के लिए पाठक क्षमा करेंगे।

अनुक्रम

  • बाल्य स्मृति
  • माँ-बाप
  • अनाथ लड़का
  • गाँव का त्याग
  • कलकत्ता में
  • सेठ का नौकर
  • पुस्तकालय का चपरासी
  • सत्संग और शिक्षा
  • आतंकवाद से असहमत
  • मित्र का अन्त
  • फिर गाँव में
  • पल्टन में भर्ती
  • शिकार और उपकार
  • रेल यात्रा
  • हिमालय
  • महायुद्ध
  • युद्ध क्षेत्र को
  • युद्ध में घायल
  • अस्पताल में
  • दुबारा घायल
  • परिचय
  • प्रेम
  • वृद्धा का वात्सल्य
  • मित्र गोष्ठी
  • मोटर ड्राइवर
  • कोयले की फेरी
  • प्रेम और आदर्श
  • उत्तराधिकार
  • स्वदेश में
  • एक बार फिर गाँव में
  • स्वयंसेवक को सजा
  • शिक्षित-अशिक्षित
  • षड्यन्त्र
  • जेल यातना
  • कोयले की खान
  • अज्ञातवास समाप्त
  • पुनर्मिलन
  • देश-विदेश
  • अवसान

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book