लोगों की राय

नई पुस्तकें >> रंजीता

रंजीता

त्रिवेणी प्रसाद त्रिपाठी

प्रकाशक : जे बी एस पब्लिकेशन्स प्रकाशित वर्ष : 2022
पृष्ठ :100
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 16000
आईएसबीएन :9789382225751

Like this Hindi book 0

समाजिक उपन्यास

प्रथम पृष्ठ

दो शब्द

यह तेरी-मेरी, उसकी बात है। ऐसा कोई भी घर न होगा, चाहे वह धनी का हो या निर्धन का, द्वेष और प्रेम सम्मिलित न हों। यह बात जरूर है कि शिक्षित परिवारों का द्वेष सड़क पर नहीं पहुँचता, किन्तु निर्धन का न केवल सड़क तक बल्कि मोहल्ले तक पहुँच जाता है। मैंने पारिवारिक कीचड़ को सब के सामने लाने की कोशिश की है वहीं उनके सामाजिक स्नेह को भी उजागर करने की चेष्टा की है।

त्रिवेणी प्रसाद त्रिपाठी

 

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book