ज़मीन पक रही है - केदारनाथ सिंह Zameen Pak Rahi Hai - Hindi book by - Kedarnath Singh
लोगों की राय

कविता संग्रह >> ज़मीन पक रही है

ज़मीन पक रही है

केदारनाथ सिंह

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :100
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14410
आईएसबीएन :9788126727179

Like this Hindi book 0

केदार जी की कविताओं का अपनापन असंदिग्ध है और वे कवि और कविताओं की भारी भीड़ में भी तुरंत पहचानी जा सकती हैं।

“केदार जी की कविताओं में व्यक्तिगत और सार्वजनिक, सूक्ष्म और स्थूल, शांत और हिंस्त्र के बीच आवाजाही, तनाव और द्वंदात्मकता लगातार देखी जा सकती है। ‘सूर्य’ कविता की पहली आठ या शायद नौ पंक्तियाँ कुहरे में धुप जैसा गुनगुना मूड तैयार करती ही हैं कि ‘खूंखार चमक, आदमी का खून, गंजा या मुस्टंड आदमी, सर उठाने की यातना’ इस गीतात्मक मूड को जहाँ एक और नष्ट करते से लगते हैं वहां उसका कंट्रास्ट भी देते हैं। दुनिया की सबसे आश्चर्यजनक चीज रोटी ताप, गरिमा और गन्ध के साथ पाक रही है। केदार जी चाहते तो इस मृदु चित्र को कुछ और पंक्तियों में ले जा सकते थे लेकिन शीघ्र ही रोटी एक झपट्टा मरने वाली चीज में बदल जाती है और कवि आदिमानव के युग में पहुँच जाता है-वह कहता अवश्य है की पकना लौटना नहीं है जड़ों की ओर, किन्तु रोटी का पकना उसे आदिम जड़ों की ओर ले जाता है। उसकी गरमाहट उसे नींद में जगा रही है, आदमी के विचारों तक पहुँच रही है और वह समझ रहा है कि रोटी भूखे आदमी की नींद में नहीं गिरेगी बल्कि उसका शिकार करना होगा और यह समझना कविता लिखते हुए भी कविता लिखने की हिमाकत नहीं बल्कि आग की ओर इशारा करना है। केदार जी की कविताओं का अपनापन असंदिग्ध है और वे कवि और कविताओं की भारी भीड़ में भी तुरंत पहचानी जा सकती हैं।”


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book