हिंदी कहानी का इतिहास: खंड-2, (1951-1975) - गोपाल राय Hindi Kahani Ka Itihas : Vol.-2, (1951-1975) - Hindi book by - Gopal Rai
लोगों की राय

आलोचना >> हिंदी कहानी का इतिहास: खंड-2, (1951-1975)

हिंदी कहानी का इतिहास: खंड-2, (1951-1975)

गोपाल राय

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :596
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13893
आईएसबीएन :9788126720552

Like this Hindi book 0

यह किताब हिन्दी कहानी का इतिहास का दूसरा खंड है। पहले खंड में 1900-1950 अवधि की हिन्दी कहानी का इतिहास प्रस्तुत किया गया था।

यह किताब हिन्दी कहानी का इतिहास का दूसरा खंड है। पहले खंड में 1900-1950 अवधि की हिन्दी कहानी का इतिहास प्रस्तुत किया गया था। इस खंड में 1951-75 का इतिहास पेश किया जा रहा है। पहले इरादा था कि दूसरे खंड में 1951-2000 की हिन्दी कहानी का इतिहास लिखा जाए। पर सामग्री की अधिकता के कारण यह इरादा बदलना पड़ा। यह भी महसूस हुआ कि 1975 का वर्ष हिन्दी कहानी में एक पड़ाव की तरह है। मोटामोटी रूप से इस वर्ष के आसपास अनेक पुराने और नये लेखकों का कहानी-लेखन या तो समाप्त हो गया या उसकी चमक समाप्त हो गयी। जो हो, दूसरे खंड की अन्तिम सीमा के लिए एक बहाना तो मिल ही गया! कहने की जरूरत नहीं कि तीसरे खंड में 1976-2000 की कहानी का इतिहास प्रस्तुत करना अभिप्रेत है। इस पुस्तक में उर्दू-हिन्दी और मैथिली-भोजपुरी- राजस्थानी के लगभग 300 कहानी लेखकों और 5000 से अधिक कहानियों का कमोबेश विस्तार के साथ विवेचन या उल्लेख किया गया है। कहानीकारों और किसी भी कारण चर्चित, उल्लेखनीय और श्रेष्ठ कहानियों की अक्षरानुक्रम सूची अनुक्रमणिका में दे दी गयी है। हमारा यह दावा निराधार नहीं है कि इसके पहले किसी इतिहास-ग्रन्थ में इतनी संख्या में कहानीकारों और कहानियों का उल्लेख उपलब्ध नहीं है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book