देह की भाषा - सुरेश कुमार वशिष्ठ Deh Ki Bhasha - Hindi book by - Suresh Kumar Vashishth
लोगों की राय

कविता संग्रह >> देह की भाषा

देह की भाषा

सुरेश कुमार वशिष्ठ

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :111
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13443
आईएसबीएन :9788183616454

Like this Hindi book 0

सुरेश की कविताओं में भाषाई सहजता है, जिनमे उनके स्वभाव का भोलापन है

देह की भाषा सुरेश कुमार वशिष्ट का पहला कविता संग्रह है। गाँव और माती से जुड़े सुरेश सामाजिक अंतःकरण रखने वाले कवि हैं और इसी दायरे में रिश्तों की तलाश करते हैं। वे अपनी परिस्थिति और अपनी काव्यवस्तु से प्रगीतात्मक रिश्ता बनाकर जीवन के अनुभव की अखंडता और भाव-जगत की सच्चाई को शब्दों में समेट लेते हैं। वे प्रेम के चित्र उकेरते हुए जीवन से एक अपूर्व सांगीतिक लय बनाए रखने में सफल साबित होते हैं। देह की भाषा में कवि का विनम्र मानववाद जीवन के राग-रंग और रति के अलावा समय से जुड़े संकट, व्यक्ति की पीड़ा, उसके रुदन-चिंता और आघात से रागात्मक लगाव रखने में सफल साबित होता है।

लोगों की राय

No reviews for this book