बेचैन पत्तों का कोरस - कुँवर नारायण Bechain Patton Ka Chorus - Hindi book by - Kunwar Narayan
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> बेचैन पत्तों का कोरस

बेचैन पत्तों का कोरस

कुँवर नारायण

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2018
पृष्ठ :152
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 12019
आईएसबीएन :9789387462601

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

कुँवर नारायण उन अत्यल्प साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों में हैं जिन्होंने अपने लेखन में भारतीय और वैश्विक विचार, चिन्तन, संवेदना और सरोकारों से गहन संवाद किया है। यह संवाद किसी एक साहित्यिक विधा तक सीमित नहीं रहा। उनकी काव्येतर कृतियाँ इस बात की पुष्टि करती हैं। कुँवर नारायण ने जैसे विश्वस्तरीय कविताएँ लिखी हैं वैसे ही कहानियाँ भी। ‘बेचैन पत्तों का कोरस’ कुँवर नारायण का दूसरा कहानी-संग्रह है। पहला कहानी-संग्रह, ‘आकारों के आसपास’, सत्तर के दशक में आया था। अपनी असाधारण मौलिकता के चलते यह संग्रह खासा ध्यानाकर्षक रहा। उस वक्त रघुवीर सहाय, श्रीकांत वर्मा, श्रीलाल शुक्ल, नेमिचन्द्र जैन जैसे साहित्यकारों ने इन कहानियों को सुखद आश्चर्य के साथ सराहा। वर्तमान समय के कथाकारों और समीक्षकों तक के लिए ये कहानियाँ निरन्तर आकर्षण और प्रेरणा का विषय बनी हुई हैं। इसी उपलब्धि का विस्तार हम इस दूसरे संकलन में पाते हैं, जो कि एक लम्बे अन्तराल के बाद आ रहा है। वर्तमान कथा-परिदृश्य को यह संकलन कई मानों में समृद्ध करेगा। इन कहानियों में अन्तर्वस्तु की विविधता ही नहीं, भाषा, संरचना और रूप का वैविध्य भी उत्कृष्टता का प्रमाण है। हर कहानी स्वयं में नयी है और दूसरी से पृथक भी। ये कहानियाँ औपचारिक और परम्परागत तरीके से अलग, कहानी विधा में प्रयोग और नवाचार हैं। बहुविधात्मक प्रभाव का सुन्दर समन्वय इन कहानियों को बहुस्तरीय बनाता है, और निबन्ध, संस्मरण, रेखाचित्र, चारित्रिकी, कविता आदि विधाओं की सम्मिलित शक्ति इन कहानियों के क्षितिज को विस्तृत करती है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book