लोगों की राय

गीता प्रेस, गोरखपुर >> श्रीवराह पुराण

श्रीवराह पुराण

गीताप्रेस

प्रकाशक : गीताप्रेस गोरखपुर प्रकाशित वर्ष : 2006
पृष्ठ :392
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 1198
आईएसबीएन :81-293-0292-6

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

83 पाठक हैं

इसमें भगवान् विष्णु के वराहअवतार का वर्णन किया गया है...

प्रथम पृष्ठ

Sanchipt Srivarah Puran -A Hindi Book Gitapress - संक्षिप्त श्रीवराहपुराण - गीताप्रेस

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

।।श्रीहरि:।।
पुराण भारत की सर्वोत्कृष्ट निधि है। इसमें भगवान् श्रीहरिके वराह अवतार की मुख्य कथा के साथ अनेक तीर्थ,व्रत,यज्ञ-यजन,श्राद्ध-तर्पण, दान और अनुष्ठान आदि का शिक्षाप्रद और आत्मकल्याणकारी वर्णन है। भगवान् श्रीहरि की महिमा,पूजन-विधान,हिमालय की पुत्री के रूप में गौरी की उत्पत्ति का वर्णन और भगवान शंकर के साथ उनके विवाह की रोचक कथा इसमें विस्तार से वर्णित है। इसके अतिरिक्त इसमें वराह-क्षेत्रवर्ती आदित्य-तीर्थों का वर्णन, भगवान श्रीकृष्ण और उनकी लीलाओं के प्रभाव से मथुरामण्डल और व्रज के समस्त तीर्थों की महिमा और उनके प्रभाव का विशद तथा रोचक वर्णन है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book