जानकीपुल - प्रभात रंजन Jankipul - Hindi book by - Prabhat Ranjan
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> जानकीपुल

जानकीपुल

प्रभात रंजन

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2009
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10393
आईएसबीएन :9788126317585

Like this Hindi book 0

इन कहानियों में न तो अनगड़ता है न अपरिपक्वता, बल्कि आज की वास्तविकता के प्रति एक वयस्क व्यंग्यबोध है

कथाकार प्रभात रंजन का यह पहला कहानी-संग्रह है, बावजूद इसके इन कहानियों में न तो अनगड़ता है न अपरिपक्वता, बल्कि आज की वास्तविकता के प्रति एक वयस्क व्यंग्यबोध है। इन कहानियों के केंद्र में आज का युवा समुदाय है जो अक्सर छोटे कस्बों से महानगरों की ओर उच्चशिक्षा या रोजगार की तलाश में आया है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book