मानुस - गौरी नाथ Manus - Hindi book by - Gaurinath
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> मानुस

मानुस

गौरी नाथ

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2010
पृष्ठ :144
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10357
आईएसबीएन :9788126318834

Like this Hindi book 0

हिंदी के युवा कथाकार गौरीनाथ का दूसरा कहानी-संग्रह है 'मानुस'। गौरीनाथ अपने आसपास के छोटे-छोटे ब्योरों से जीवन्त कथास्थितियाँ रचते हैं….

हिंदी के युवा कथाकार गौरीनाथ का दूसरा कहानी-संग्रह है 'मानुस'। गौरीनाथ अपने आसपास के छोटे-छोटे ब्योरों से जीवन्त कथास्थितियाँ रचते हैं। उनकी कथा-भाषा गरीबी के जिस सौन्दर्य को प्रस्तुत करती है उसमें गरीबों के दुःख और गुमान दोनों व्यक्त हुए हैं।

लोगों की राय

No reviews for this book