कभी जल कभी जाल - हेमन्त कुकरेती Kabhi Jal Kabhi Jaal - Hindi book by - Hemant Kukreti
लोगों की राय

कविता संग्रह >> कभी जल कभी जाल

कभी जल कभी जाल

हेमन्त कुकरेती

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :124
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10338
आईएसबीएन :9788126315529

Like this Hindi book 0

कभी जल कभी जाल' युवा कवि हेमन्त कुकरेती का चौथा कविता-संग्रह है...

कभी जल कभी जाल' युवा कवि हेमन्त कुकरेती का चौथा कविता-संग्रह है। हेमन्त कुकरेती की कविताएँ संवेदना, सोच और संरचना की दृष्टि से समकालीन हिंदी कविता में एक महत्त्वपूर्ण स्थान निर्मित कर चुकी हैं। 'कभी जल कभी जाल' की कविताओं के केंद्र में 'प्रेम'।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book