हम हश्मत भाग-2 - कृष्णा सोबती Hum Hushmat Vol.-2 - Hindi book by - Krishna Sobti
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> हम हश्मत भाग-2

हम हश्मत भाग-2

कृष्णा सोबती

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :337
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10249
आईएसबीएन :9788171787623

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

हम हशमत-2 लगभग बीस बरसों बाद ‘हम हशमत-2’ प्रस्तुत कर रही हैं कृष्णा सोबती। समकालीनों के संस्मरणों के बहाने, इस शती पर फैला हिंदी साहित्य समाज, अपने वैचारिक और रचनात्मक विमर्श के साथ उजागर है। इस शताब्दी की प्रमुख हिंदी साहित्यिक हस्तियाँ नामवर सिंह, अशोक वाजपेयी, अज्ञेय, अश्क, श्रीकांत वर्मा, नेमिचंद्र जैन, मंटो, अरविंद कुमार, बलवंत सिंह, राजेंद्र सिंह बेदी, उमाशंकर जोशी, सत्येन कुमार, मंज़ईर एहतेशाम, सौमित्र मोहन, स्वदेश दीपक, प्रयाग शुक्ल, कमलेश्वर, नासिरा शर्मा और कन्हैयालाल नंदन मात्र फोटोग्राफ़ी मुखाकृति में ही नहीं, बाक़ायदा अपनी-अपनी अदबी शख़्सियत में मौजूद हैं। ‘हम हशमत’ के पहले भाग में जो लेखक-गुच्छा प्रस्तुत किया गया था उसमें थे निर्मल वर्मा, भीष्म साहनी, कृष्ण बलदेव वैद, अमजद भट्टी, महेंद्र भल्ला, गोविंद मिश्र, मनोहर श्याम जोशी, नागार्जुन, शीला संधू, नितिन सेठी, रमेश पटेरिया, सुधीर पंत, मियाँ नसीरुद्दीन और सरदार जग्गा सिंह। हिंदी के सुधी पाठकों और आलोचकों ने ‘हम हशमत’ को संस्मरण विधा में मील का पत्थर माना था। ‘हम हशमत’ की विशेषता है तटस्थता। कृष्णा सोबती के भीतर पुख़्तगी से जमे ‘हशमत’ की सोच और उसके तेवर विलक्षण रूप से एक साथ दिलचस्प और गंभीर हैं। नज़रिया ऐसा कि एक समय को साथ-साथ जीने के रिश्ते को निकटता से देखे और परिचय की दूरी को पाठ की बुनत और बनावट जज़्ब कर ले। ‘हशमत’ की औपचारिक निगाह में दोस्तों के लिए आदर है, जिज्ञासा है, जासूसी नहीं। यही निष्पक्षता नए-पुराने परिचय को घनत्व और लचक देती है और पाठ में साहित्यिक निकटता की दूरी को भी बरकरार रखती है। ‘हम हशमत’ हमारे समकालीन जीवन-फलक पर एक लंबे आख्यान का प्रतिबिंब है। इसमें हर चित्र घटना है और हर चेहरा कथानायक। ‘हशमत’ की जीवंतता और भाषायी चित्रात्मकता उन्हें कालजयी मुखड़े के स्थापत्य में स्थित कर देती है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book