काश एक बेटा मेरा भी होता - गीता धर्मराजन Kaash Ek Beta Mera Bhee Hota - Hindi book by - Geeta Dharmrajan
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> काश एक बेटा मेरा भी होता

काश एक बेटा मेरा भी होता

गीता धर्मराजन

प्रकाशक : कथा प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :28
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 10108
आईएसबीएन :9788189020910

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

जैसे बूँद-बूँद से गहरे सागर, रेत के कणों से फैले हुए रेगिस्तान बनते हैं, वैसे ही नन्हें बच्चों की सूझ-बूझ से बनती हैं मनोरंजक कहानियाँ। चलो ले चलते हैं तुम्हें अबु, नूतन, कोकिला, जिश्नू ... सो मिलाने। क्या हैं इनमें कोई तुम्हारे जैसा... ?

यह आदमी कब समझेगा कि लड़कियाँ लड़कों से कम नहीं !


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book