Kedarnath Singh/केदारनाथ सिंह
लोगों की राय

लेखक:

केदारनाथ सिंह
जन्म : 1934, चकिया, बलिया (उत्तर प्रदेश) में।
विधाएँ : कविता, आलोचना

कृतियाँ
कविता संग्रह :

  • अभी बिल्कुल अभी
  • जमीन पक रही है
  • यहाँ से देखो
  • बाघ
  • अकाल में सारस
  • उत्तर कबीर और अन्य कविताएँ
  • तालस्ताय और साइकिल
आलोचना :

  • कल्पना और छायावाद
  • आधुनिक हिंदी कविता में बिंबविधान
  • मेरे समय के शब्द
  • मेरे साक्षात्कार
संपादन :
  • ताना-बाना (आधुनिक भारतीय कविता से एक चयन)
  • समकालीन रूसी कविताएँ
  • कविता दशक
  • साखी (अनियतकालिक पत्रिका)
  • शब्द (अनियतकालिक पत्रिका)
सम्मान:
  • मैथिलीशरण गुप्त सम्मान
  • कुमारन आशान पुरस्कार
  • जीवन भारती सम्मान
  • दिनकर पुरस्कार
  • साहित्य अकादमी पुरस्कार
  • व्यास सम्मान
संपर्क ए- 883,
एस.एफ.एस. फ्लैट
साकेत, नई दिल्ली-110017

अकाल में सारस

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 295

‘अकाल में सारस’ में भाषा के प्रति अत्यन्त संवेदनशील तथा सक्रिय काव्यात्मक लगाव एक नए काव्य-प्रस्थान की सूचना देता है।

  आगे...

अभी बिल्कुल अभी

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 250

  आगे...

आधुनिक हिंदी कविता में बिम्बविधान

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 650

आधुनिक हिंदी कविता में बिम्बविधान

  आगे...

उत्तर कबीर और अन्य कविताएँ

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 350

उत्तर कबीर और अन्य कविताएँ

  आगे...

कब्रिस्तान में पंचायत

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 295

कब्रिस्तान में पंचायत केदारनाथ सिंह का एक व्यंग्य हास्य निबंध है

  आगे...

ज़मीन पक रही है

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 250

केदार जी की कविताओं का अपनापन असंदिग्ध है और वे कवि और कविताओं की भारी भीड़ में भी तुरंत पहचानी जा सकती हैं।

  आगे...

ताल्स्ताय और साइकिल

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 295

ताल्सताय और साइकिल केदारनाथ सिंह की नई कविताओं का संग्रह है

  आगे...

नयी सदी के लिए चयन : पचास कविताएँ

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 65

नयी सदी के लिए चयन : पचास कविताएँ   आगे...

पानी की प्रार्थना

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 395

पानी की प्रार्थना

  आगे...

प्रतिनिधि कविताएं: केदारनाथ सिंह

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 75

केदार की कविता जो पहली बार रूप या तंत्र के धरातल पर एक आकर्षक विस्मय पैदा करती है क्रमश: बिम्ब और विचार के संगठन में मूर्त होती है और एक तीखी बेलौस सच्चाई की तरह पूरे सामाजिक दृश्य पर अंकित होती चली जाती है।

  आगे...

 

12  View All >>   16 पुस्तकें हैं|