Samayik Prakashan/सामयिक प्रकाशन
लोगों की राय

सामयिक प्रकाशन की पुस्तकें :

आजाद औरत कितनी आजाद

शैलेन्द्र सागर, रजनी गुप्ता

मूल्य: $ 13.95

अच्छी बात यह है कि यहाँ स्त्री ही स्त्री-निमर्श करती नजर नहीं आती, पुरुष विचारक भी साथ में हैं...   आगे...

आवां

चित्रा मुदगल

मूल्य: $ 30.95

बीसवीं सदी के अंतिम प्रहर में एक मजदूर की बेटी के मोहभंग, पलायन और वापसी के माध्यम उपभोक्तावादी वर्तमान समाज को कई स्तरों पर अनुसंधानित करता, निर्ममता से उधेड़ता, तहें खोलता, चित्रा मुदगल का सुविचारित उपन्यास आवां’ अपनी तरल, गहरी संवेदनात्मक पकड़ और भेदी पड़ताल के आत्मलोचन के कटघरे में ले, जिस विवेक की मांग करता है-वह चुनौती झेलता क्या आज की अनिवार्यता नहीं   आगे...

औरत के लिए औरत

नासिरा शर्मा

मूल्य: $ 12.95

इन लेखों में जीवन की आंच भी है और आस भी कि स्वयं नारी अपने प्रति होते हुए अत्याचारों और शोषण का रुख बदलेगी..   आगे...

कुइयाँजान

नासिरा शर्मा

मूल्य: $ 24.95

नासिरा शर्मा का रोचक उपन्यास...   आगे...

खानाबदोश ख्वाहिशें

जयंती

मूल्य: $ 16.95

उपन्यास में निधि और शिवम से प्रारंभ हुई कथा के साथ-साथ मुंबई शहर में संघर्ष की कड़ियां ऐसे जुड़ती चली गई हैं कि आप जिज्ञासा में अंत तक बंधे पढ़ते चले जाएंगे...   आगे...

खुली खिड़कियां

मैत्रेयी पुष्पा

मूल्य: $ 15.95

हिंदी की सुप्रतिष्ठित कथाकार मैत्रेयी पुष्पा के गहन चिंतन को मुखर करते लेख...   आगे...

गली दुल्हनवाली

मीरा कांत

मूल्य: $ 19.95

स्त्री के जीवन से जुड़े ज्वलंत प्रश्नों पर रचनात्मक बहस को आमंत्रित करने का माद्दा इन कहानियों में भरपूर है...   आगे...

गिलिगडु

चित्रा मुदगल

मूल्य: $ 9.95

आज के बदलते जीवन मूल्यों पर आधारित उपन्यास   आगे...

पत्तों में कैद औरतें

शरद सिंह

मूल्य: $ 16.95

शरद सिंह की स्त्री विमर्श पर यह नवीनतम पुस्तक ‘पत्तों में क़ैद औरतें’ उन औरतों की जीवन-दशाओं से साक्षात्कार कराती है जो सबके सामने हैं, फिर भी अनदेखी हैं   आगे...

पिछले पन्ने की औरतें

शरद सिंह

मूल्य: $ 18.95

छिपी रहती है हर औरत के भीतर एक और औरत, लेकिन लोग अकसर देखते हैं सिर्फ बाहर की औरत   आगे...

 1 2 >   View All >>   16 पुस्तकें हैं|