अक्षर कथा - गुणाकर मुळे Akshar Katha - Hindi book by - Gunakar Muley
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> अक्षर कथा

अक्षर कथा

गुणाकर मुळे

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
आईएसबीएन : 9788126728077 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :394 पुस्तक क्रमांक : 9438

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

376 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

प्राचीन नदीघाटी सभ्यताओं में जब नगरों की स्थापना होने लगती है, पहली बार लिपियाँ तभी जन्म लेती दिखाई देती हैं ! यह कोई छह हजार साल पहले की बात है ! वर्न्मलात्मक लिपियाँ ई.पू. दसवीं सदी के आसपास पहली बार सामने आती हैं ! तब से आज तक लिपियों का विशेष विकास नहीं हुआ ! बहुत-सी पुरालिपियाँ मर गई हैं, उनका ज्ञान भी लुप्त हो गया ! पिछले करीब दो सौ वर्षों में संसार के अनेक पुरालिपिविदों ने पुनः उन पुरालिपियों का उद्घाटन किया है !

इस ग्रन्थ में गुणाकर जी ने मुख्यतः संसार की प्रमुख पुरालिपियों की जानकारी दी है ! पाठक इससे जान जाएँगे कि किस देश में कौन-सी लिपि का अस्तित्व था, उसका स्वरुप कैसा था, उसके संकेत या अक्षर कैसे थे और आधुनिक काल में उन पुरालिपियों का उद्घाटन कैसे हुआ ! पुस्तक के दुसरे खंड में भारतीय लिपियों की जानकारी है ! आरम्भ में सिन्धु लिपि (अज्ञात) तथा खरोष्ठी लिपि का विवरण है ! फिर ब्राह्मी लिपि के उदभव तथा विकास के बारे में यथासम्भव पूरी जानकारी दी गई है !

पुस्तक का परिशिष्ट संसार के प्रमुख भाषा-परिवारों पर केंदित है ! भाषा सम्बन्धी जिज्ञासु पाठकों और छात्रों के लिए प्रमाणिक तथ्यों, चित्रों और तालिकाओं से समृद्ध यह पुस्तक निश्चित रूप से उपादेय होगी !

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login