मनुष्य और पर्यावरण - इरफान हबीब Manushya Aur Paryavaran - Hindi book by - Irfan Habib
लोगों की राय

स्वास्थ्य-चिकित्सा >> मनुष्य और पर्यावरण

मनुष्य और पर्यावरण

इरफान हबीब

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
आईएसबीएन : 9788126727438 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :184 पुस्तक क्रमांक : 9380

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

335 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

मनुष्य और पर्यावरण विगत दशकों में पारिस्थितिकी और उससे जुड़े मसलों के प्रति विशेष रुचि दिखाई पड़ी है, खास तौर पर जलवायु-परिवर्तन को लेकर होनेवाली बहसों के सन्दर्भ में इस तरफ सुधीजन का ज्यादा ध्यान गया है। लेकिन पारिस्थितिकी का विमर्श सिर्फ जलवायु तक सीमित नहीं है। इसमें जीव-जन्तुओं तथा पेड़-पौधों के साथ मनुष्य के रिश्तों के अलावा मनुष्य जाति के सम्मुख प्रकृति द्वारा प्रस्तुत चुनौतियों का अध्ययन भी शामिल होता है। इसी व्यापक परिप्रेक्ष्य के साथ इस पुस्तक में पारिस्थितिकी के इतिहास को देखा-समझा गया है।

‘भारत का लोक इतिहास’ परियोजना के तहत प्रकाशित यह पुस्तक भी इस शृंखला की अन्य कड़ियों की तरह गहन अध्ययन और प्रामाणिक सामग्री पर आधारित है। मूल स्रोतों के उद्धरणों तथा पारिस्थितिकी, पर्यावरण विज्ञान, वन विज्ञान तथा प्राकृतिक इतिहास पर विशेष टिप्पणियों से समृद्ध इस पुस्तक में विषय से सम्बन्धित अन्य उपयोगी ग्रन्थों का उल्लेख भी किया गया है जिससे पाठक और अधिक लाभान्वित होंगे।

सूचनाओं की सटीकता को बरकरार रखते हुए, पुस्तक को अतिरिक्त तकनीकी विवरणों से मुक्त रखा गया है ताकि इतिहास के छात्रों के अलावा यह सामान्य पाठकों के लिए भी रुचिकर सिद्ध हो।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login