श्री रामनगर रामलीला - भानु शंकर मेहता Shri Ramnagar Ramleela - Hindi book by - Bhanu Shankar Mehta
लोगों की राय

धर्म एवं दर्शन >> श्री रामनगर रामलीला

श्री रामनगर रामलीला

भानु शंकर मेहता

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
आईएसबीएन : 9789352210589 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :223 पुस्तक क्रमांक : 9344

5 पाठकों को प्रिय

317 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

रामचरितमानस सोलहवीं सदी में पुनः कही गयी रामकथा है जिसमे राम का दर्पण रूप प्रतिबिंबित है और यहाँ राम देवपद पर प्रतिष्ठित हो गये हैं ! यहाँ राम द्विज हैं और उनकी कथा भी दो बार कही गयी ! रामकथा का एक तृतीयांश आदर्श पुरुष राम का, दूसरी तिहाई राजाराम की और अंतिम अंश वैरागी यात्री राम का है !

यहाँ रामनगर में समानांतर अंक हैं - नगर में जहाँ सुख-सुविधा है, अविकसित ग्राम हैं और वन हैं वहीं आदिवासी, साधु-संत और वैरागी भी रहते हैं ! रामनगर रामलीला का अद्भुत प्रसंग है-कोट विदाई ! एक राजा द्वारा दूसरे राजा का स्वागत-सत्कार और फिर स्वरूपों को देवरूप मानकर विधिवत पूजा करता है ! रामनगर रामलीला की यात्राएँ देखें-एक तो राम जी की बारात है जो अयोध्या से जनकपुर जाती है, फिर विदाई यात्रा है जिसमे वर-वधू जनकपुर से अयोध्या आते हैं ! वनयात्रा और भरत की चित्रकूट नंदीग्राम की लम्बी यात्रा है ! भरत-मिलन-लंडा से अयोध्या की यात्रा है ! रामनगर रामलीला में लोक कला चरम उत्कर्ष पर पहुँच गयी है ! लोक कला की सीमा में सौन्दर्यबोध-नाटक, धर्म, राजनीति और समाज की संयुक्त अवतारणा है ! रामलीला में पुराणकथा, दर्शक सहभागिता, राजनीति की माया, पर्यावरण का सभी स्तरों पर प्रदर्शन होता है ! अन्यत्र कहीं भी रामनगर का अनुकरण नहीं हो सकता, हाँ, इससे कुछ सीख सकते हैं !

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login