गाँधीवाद की शव परीक्षा - यशपाल Gandhiwad Ki Shav Pariksha - Hindi book by - Yashpal
लोगों की राय

लेख-निबंध >> गाँधीवाद की शव परीक्षा

गाँधीवाद की शव परीक्षा

यशपाल

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
आईएसबीएन : 9788180319433 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :129 पुस्तक क्रमांक : 9338

5 पाठकों को प्रिय

96 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

‘गांधीवाद की शव परीक्षा’ गाँधी जी ने इस देश के सार्वजानिक जीवन में राजनैतिक नेता के रूप में प्रवेश किया था ! गाँधी जी ने देश की राजनैतिक मुक्ति के लिए जनता के सामने जो राजनैतिक कार्यक्रम रखा था, उसे गांधीदर्शन और गाधीवाद का नाम दिया गया था ! गाँधीवादी नीति पर चलने का दावा करनेवाली शासन व्यवस्था देश के सर्व-साधारण के जीवन से कठिनाई को दूर करने के लिए क्या कर सकी है, यह देश की जनता अपने अनुभव से जानती है !

सर्वोदय को ध्येय माननेवाले दरिद्रनारायण के पुजारी गांधीवाद की इस विफलता का कारण समझने के लिए उसके सिद्दांतो की परख आवश्यक है ! जनता के लिए यह समझना आवश्यक है कि उनकी भौतिक समस्याओं और कठिनाइयों का उपाय, गांधीवाद अध्यात्म द्वारा संभव है या आर्थिक और राजनैतिक प्रयत्नों द्वारा ? इस विचार के प्रयोजनों से ‘गांधीवाद की शव परीक्षा’ का यह संस्करण प्रस्तुत है !

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login