कंकाल - जयशंकर प्रसाद Kankaal - Hindi book by - Jaishankar Prasad
लोगों की राय

सामाजिक >> कंकाल

कंकाल

जयशंकर प्रसाद

प्रकाशक : राजपाल एंड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :176
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9287
आईएसबीएन :9789350643020

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

329 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

जयशंकर प्रसाद बहुआयामी रचनाकार थे, जिनकी लेखन और रंगमंच दोनों पर अच्छी पकड़ थी। कवि, नाटककार, कहानीकार होने के साथ-साथ वह उच्चकोटि के उपन्यासकार भी थे। जयशंकर प्रसाद ने तीन उपन्यास लिखे, तितली, कंकाल और इरावती। अंतिम उपन्यास इरावती उनके निधन के कारण अधूरा रह गया।

कंकाल में लेखक ने हिन्दू धर्म के ठेकेदारों की सच्चाई को उद्घाटित किया है। सत्य और मोक्ष की खोज में लगे धर्म के अनुयायी कैसे अपनी वासना में खुद फँस जाते हैं और औरों को इसका शिकार बनाते हैं। धार्मिक स्थानों के बंद दरवाज़ों के पीछे काम और वासना का यह खेल कैसे लोगों को, विशेषकर मासूम और निर्दोष लड़कियों की जि़ंदगी को तबाह कर देता है, इन सबका बहुत ही मार्मिक ताना-बाना बुना गया है इस उपन्यास में।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book