अजातशत्रु - जयशंकर प्रसाद Ajatshatru - Hindi book by - Jaishankar Prasad
लोगों की राय

नाटक-एकाँकी >> अजातशत्रु

अजातशत्रु

जयशंकर प्रसाद

प्रकाशक : विश्व बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2015
आईएसबीएन : 97888179874875 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :88 पुस्तक क्रमांक : 9256

1 पाठकों को प्रिय

203 पाठक हैं

प्रस्तुत है पुस्तक के कुछ अंश

उत्तर भारत के ज्ञात इतिहास काल का संभवतः प्रथम सम्राट मगधनायक बिंबसार का पुत्र अजातशत्रु अपने प्रारंभिक जीवन में कितना ही हिंसक, उच्छृंखल और अविनीत रहा हो, पर परवर्ती जीवन में वह एक साहसी, कार्यकुशल एवं व्यवहार पटु शासक सिद्ध हुआ, जिस ने अपने पराक्रम से कोशल नरेश प्रसेनजित को पराजित किया।

इसी अजातशत्रु के प्रचंड पराक्रम की गौरव गाथा है जयशंकर ‘प्रसाद’ द्वारा रचित नाटक ‘अजातशत्रु’। तीन अंकों में विभक्त इस नाटक की प्रायः संपूर्ण कथात्मक घटनाएं मगध, कोशल और कौशांबी में घटित होती हैं।

नाटककार ने इन घटनाओं को बड़ी ही कुशलता से संयोजित किया है कि एक राज्य में घटित घटना का प्रभाव दूसरे राज्य पर पड़ता है। नाटक पर बौद्ध धर्म का प्रभाव सहज ही देखा जा सकता है।

अपने इतिहास बोध, रोचकता एवं तथ्यपरकता के कारण यह नाटक सभी वर्गों के लिए पठनीय एवं संग्रहणीय है।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login