बचपन से बलात्कार - अरविन्द जैन Bachapan Se Balatkar - Hindi book by - Arvind Jain
लोगों की राय

नारी विमर्श >> बचपन से बलात्कार

बचपन से बलात्कार

अरविन्द जैन

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
आईएसबीएन : 9788126728862 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :160 पुस्तक क्रमांक : 9203

Like this Hindi book 6 पाठकों को प्रिय

390 पाठक हैं

बचपन से बलात्कार...

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

बचपन से बलात्कार महिला कानूनों के जानकर और समाज तथा अदालत दोनों जगह स्त्री-सम्मान की सुरक्षा पर पैनी और सतर्क निगाह रखनेवाले लेखक व न्यायविद अरविन्द जैन की यह पुस्तक बलात्कार के सामाजिक, वैधानिक और नैतिक पहलुओ को गहरी और मुखर न्याय-संवेदना के साथ देखती है ! इस किताब की मुख्य चिंता यह है कि समाज के सांस्कृतिक चौखटे में जड़ी स्त्री-देह घरों और घरों से बाहर जितनी वध्य है, दुर्भाग्य से बलात्कार की शिकार हो जाने के बाद कानून की हिफाजत में भी उससे कुछ ज्यादा सुरक्षित नहीं है ! न सिर्फ यह कि समाज के पुरुष-वर्चस्व की छाया कानूनी प्रावधानों में भी न्यस्त है, बल्कि उनको कार्यान्वित करनेवाले न्यायालयों, जजों, वकीलों आदि की मनो-सांस्कृतिक संरचना में भी जस की तस काम करती दिखाई देती है ! पुस्तक में पंद्रह आलेख है ! परिशिष्ट में कुछ जरूरी जानकारियां है ! विशेषता यह है कि अरविन्द जैन ने पूरी सामग्री को व्यापक स्त्री विमर्श से जोड़ा है ! न्याय और अस्मिता रक्षा के लिए प्रतिबद्ध उनकी विचारधारा भाषा को नया तेवर देती है !

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login