पहर ढलते - मंजूर एहतेशाम Pahar Dhalte - Hindi book by - Manzoor Ehtesham
लोगों की राय

नाटक-एकाँकी >> पहर ढलते

पहर ढलते

मंजूर एहतेशाम

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2007
आईएसबीएन : 9788126713226 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :115 पुस्तक क्रमांक : 9202

3 पाठकों को प्रिय

34 पाठक हैं

पहर ढलते...

Pahar Dhalte - A Hindi Book by Manzoor Ehtesham

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

पहर ढलते बीहड़ सर्दियों की एक रात के आहिस्ता-आहिस्ता ढलते पहर। फ़जश को इमर्जेंसी के नाख़ूनों ने जकड़ रखा है। शहर की आम बस्तियों से दूर एक आलीशान कोठी के अँधेरे-उजाले में हरकत करते कुछ किरदार, लेखन में उन्हें, रात के अँधेरे में, एक शातिर जासूस की महारत के साथ, ऐसे पकड़ा गया है कि वे कभी यथार्थ लगते हैं कभी फैन्टेसी। इन्हें देखकर सहसा मुक्तिबोध की लम्बी कविता ‘अँधेरे में’ के चरित्र याद आते हैं। इन चरित्रों में नवाब, बेगम, अफसर, मंत्री, व्यापारी, क़व्वाल, औरतें, ख़ादिम, शोहदे, सब हैं। अपनी-अपनी जिम्मेदारियों से बच निकलने का पार्ट अदा करते हुए। इस भुतहा नाटक में पाखंड, गुरूर, नफ़रत, ईर्ष्या, सूफ़ियाना क़लाम, इश्क, पछतावा, आँसू, फ़रेब, मक्कारी सभी के रक्स हैं। रात के एक हिस्से की कहानी के बाहर जाने कितनी और रातें और दिन हैं जहाँ लेखक हमें ले जाता है, और फिर वापस ले आता है, वर्तमान में सक्रिय भूतों की बारात के बीचों-बीच।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login